कटनी
देश की प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक सिविल सेवा परीक्षा पास करने के बाद कुछ लोग भ्रष्टाचार करने लग जाते हैं, वहीं कई अधिकारी ऐसी पहल करते हैं कि लोग उन्हें सलाम करते हैं. पैसे और बड़ा पद आने के साथ लोग अपने बच्चों की पढ़ाई किसी महंगे स्कूल से कराते हैं. वहीं, मध्य प्रदेश के कटनी के जिलाधिकारी डॉ. पंकज जैन और उनकी आईएएस पत्नी तनवी जैन ने मिसाल कायम की है.

आर्थिक रूप से संपन्न होने के बाद भी ये आईएएस दंपत्ति अपनी लाडली बच्ची पंखुड़ी को शहर के आंगनबाड़ी केंद्र में भेजते हैं. डीएम की बेटी होने के बाद भी उसके लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं होती. वह आम बच्चों के साथ जमीन पर बैठकर पढ़ाई करती है. डीएम की बेटी के साथ आंगनबाड़ी केंद्र में कोई ऑटो चालक का बेटा तो कोई मजदूर का बच्चा पढ़ता है. डीएम जब भी अपनी बच्ची को लेकर आंगनबाड़ी केंद्र आते हैं तो बच्चों के बीच टॉफी बांटते हैं. इस वजह से यहां के बच्चे उन्हें टॉफी वाले अंकल के नाम से जानते हैं.

अपनी इस अनोखी पहल को लेकर डॉ. पंकज जैन ने बताया कि पहले हम पहल करेंगे तो दूसरे लोग भी सामने आएंगे. बताते चलें कि तनवी जैन 2010 बैच की आईएएस अधिकारी हैं जबकि डॉ पंकज जैन 2012 बैच के आईएएस हैं. तनवी भोपाल में मध्य प्रदेश इलेक्ट्रॉनिक डेवलपमेंट कारपोरेशन की डायरेक्टर हैं.

Source : Agency