रायपुर 
अपर मुख्य सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त श्री के.डी.पी. राव ने कल यहां मंत्रालय में आगामी खरीफ सीजन के लिए किसानों को कृषि आदान सामग्रियों बीज एवं रासायनिक खाद की मांग, उपलब्धता एवं भण्डारण की समीक्षा की। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि वे क्षेत्र के अधिकारियों तथा जिला कलेक्टर्स से नियमित संवाद एवं समन्वय रखते हुए आवश्यकता अनुसार उन्नत बीज एवं उर्वरक की उपलब्धता सुनिश्चित रखें। 

समीक्षा बैठक में बीज विकास निगम के अधिकारियों द्वारा बताया कि प्रदेश में 8 लाख 50 हजार 550 क्विंटल बीज की मांग के विरूद्ध 4 लाख 37 हजार 725 क्विंटल उन्नत किस्म के बीजों का भण्डारण विभिन्न जिलांे में कर दिया गया है, जिसमें से अभी तक समितियों के माध्यम से 77 हजार 817 क्विंटल एवं विभाग तथा अन्य संस्थाओं के द्वारा 5,133 क्विंटल, इस प्रकार कुल 82 हजार 946 क्विंटल उन्नत किस्म के बीज का वितरण किया गया है।

इसी प्रकार संचालक कृषि एवं महाप्रबंधक मार्कफेड द्वारा बताया गया कि 10 लाख 50 हजार 550 मीट्रिक टन उर्वरक मांग के विरूद्ध 6 लाख 13 हजार 265 मीट्रिक टन उर्वरक जिलो में भण्डारण कर दी गयी है, जिसमें से समितियों के माध्यम से अब तक 53 हजार 410 मीट्रिक टन एवं निजी विक्रेताओं के माध्यम से 14 हजार 263 मीट्रिक टन इस प्रकार कुल 67 हजार 673 मीट्रिक टन उर्वरक का वितरण किया जा चुका है। 

बैठक में संचालक कृषि, प्रबंध संचालक बीज एवं कृषि विकास निगम, प्रबंध संचालक छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ एवं प्रबंध संचालक, राज्य सहकारी बैंक (अपेक्स बैंक) को क्षेत्र में किसानों के मांग अनुसार बीज की उन्नत किस्मों एवं उर्वरकों का समय पर पर्याप्त भण्डारण करने तथा समिति स्तर पर शिविर लगाकर वितरण करने के निर्देश दिए गए। इसी तरह उन्हें बीज एवं उर्वरक के सही एवं समुचित उपयोग करने के संबंध में सम सामयिक तकनीकी सलाह उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए गए। इसी तरह लिफलेट एवं पाम्पलेट के माध्यम से भी किसानों को खेती-किसानी को उन्नत बनाने की समझाईश देने के निर्देश दिए गए। 

बैठक में श्री भीम सिंह, संचालक कृषि, श्री जन्मेजय महोबे, प्रबंध संचालक बीज निगम, श्री एच.के. नागदेव, प्रबंध संचालक अपेक्स बैंक, श्री एम.एल. सिरदार, महाप्रबंधक मार्कफेड एवं श्री एम.एस. केरकेट्टा, अपर संचालक संचालनालय कृषि उपस्थित थे।

Source : Agency