नोएडा   
 
दिल्ली से सटा यूपी का नोएडा शहर. हर तरफ भीड़ भाड़. सड़कों पर दौड़ता ट्रैफिक. एक तन्हा खूबसूरत लड़की. सड़क के किनारे एक सुनसान सी जगह पर वो कमसिन युवती किसी का इंतजार करती नजर आती है. वो सड़क से गुजरने वाली गाड़ियों को निहारती है. फिर अचानक वो एक कार को हाथ देकर रोकती है. लड़की को देखकर गाड़ी चलाने वाला कार के ब्रेक दबाता है. फौरन गाड़ी सड़क के किनारे खड़ी उस लड़की के पास रुक जाती है.

गाड़ी चलाने वाला शख्स उस लड़की से मुखातिब होकर सवाल करता है. क्या मदद कर सकता हूं आपकी? वो लड़की मुस्कुरा कर उसे कहती है- क्या आप मुझे लिफ्ट दे सकते हैं. लड़की की शख्सियत को देखकर गाड़ी चलाने वाला फौरन हामी भर देता है. किसी महंगे डियो की खुशबू से महकती वो खूबसूरत लड़की उस शख्स की कार में सवार हो जाती है. कार फिर से नोएडा की सड़कों पर दौड़ने लगती है.

लड़की और कार चलाने वाला शख्स एक दूसरे से बातें करने लगते हैं. कुछ दूर चलने के बाद नोएडा की एक मुख्य सड़क पर अचानक लड़की गाड़ी चलाने वाले को रुकने के लिए कहती है. गाड़ी चलाने वाला भी कार के ब्रेक लगा देता है. लड़की तेजी से कार का दरवाजा खोलती है. और वहीं कुछ दूरी पर खड़ी एक पुलिस पीसीआर के पास जाकर पुलिस वालों से कुछ कहती है. कार चलाने वाला कुछ समझे इससे पहले ही पुलिस वाले उसे रोक लेते हैं.

फिर कार चलाने वाले के सामने ही लड़की पुलिसवालों से कहती है कि उसने उसके साथ बलात्कार किया है. ये सुनकर लड़की को लिफ्ट देने वाले के होश उड़ जाते हैं. वो लड़की पर चिल्लाने लगता है. पुलिस को अपने बेगुनाह होने की बात कहता है. वो पुलिसवालों को सारी बातें बताता है. लेकिन वो उसकी एक नहीं सुनते. और बस यहीं से शुरू होता है उस गाड़ी वाले के साथ ब्लैकमेलिंग का खेल.

जी हां, ये किसी फिल्म कहानी या फिर उपन्यास का किस्सा नहीं बल्कि नोएडा पुलिस की करतूत का एक नमूना है. जहां वर्दीवाले गुंडों के एक गिरोह ने ऐसा काम किया कि यूपी पुलिस फिर दागदार हो गई. ये असली पुलिसवाले थे, जो उस लड़की के साथ मिलकर ब्लैकमेलिंग का धंधा चला रहे थे. खाकी की आड़ में अपराधियों का काम कर रहे थे.

अब यूपी की पुलिस अपने साथियों की करतूत पर शर्मसार है. पुलिस ने कई शिकायतें मिलने के बाद इस वर्दी वाले गुंडों के गैंग का पर्दाफाश कर दिया है. इस गैंग में शामिल सेक्टर-44 पुलिस चौकी का इंचार्ज, 3 सिपाही और 2 महिलाओं समेत 15 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पकड़े गए लोगों के पास रिश्वत के 50 हजार रुपये और एक पीड़ित की होंडा सिटी कार बरामद हुई है.

ज़रा सोचिए, जब पुलिस ही बदमाशों के साथ मिलकर गैंग बना ले और उसे कामयाबी से ऑपरेट करने लगे, तब आम जनता की रक्षा कौन करेगा. कौन आपको इंसाफ दिलाएगा. खाकी वालों का यह गैंग सुंदर महिलाओं और युवतियों का इस्तेमाल करके लोगों को अपना शिकार बनाता था. लिफ्ट लेकर युवती कार में सवार हो जाती थी. फिर रेप के झूठे आरोप लगाकर कार चलाने वाले को ब्लैकमेल करती थी.

मामला पुलिस तक जाता तो चौकी इंचार्ज और उसके साथी पुलिसकर्मी समझौते के नाम पर उगाही करने का काम करते थे. इस गिरोह की करतूत का पता अधिकारियों तब चला, जब इस गैंग के शिकार बने एक पीड़ित की होंडा सिटी कार भी पुलिसकर्मियों ने जबरन चौकी में खड़ी करा ली. चौकी इंचार्ज सुनील शर्मा उससे एक लाख रुपये देने की मांग कर रहा था.

पीडि़त ने इस बात की जानकारी एसएसपी को दी. इसके बाद कोतवाली सेक्टर-39 के प्रभारी निरीक्षक की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई. इस मामले की जांच सीओ सिटी सेकेंड को सौंपी गई. जांच में सारा मामला खुलकर सामने आ गया. इसके बाद पुलिस ने सेक्टर-44 पुलिस चौकी प्रभारी उप निरीक्षक सुनील शर्मा, कांस्टेबल मनोज कुमार, अजयवीर सिंह, देवेंद्र कुमार, पीसीआर ड्राइवर विपिन सिंह, दुर्वेश कुमार, राजेश के अलावा सलीम, सतीश उर्फ अंकित, हरिओम शर्मा, सुरेश कुमार, देशराज, विनीता पत्नी सतीश और पूजा को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने इन आरोपियों के कब्जे से पीडित से वसूली गई 50 हजार रुपये की नकदी और तीन कार बरामद की हैं. एसएसपी ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तों में सतीश उर्फ अंकित, सतीश की पत्नी विनीता और पूजा पहले से ही इस तरह के काम में लिप्त थे. उन्होंने फरीदाबाद में वर्ष-2014 और 2017 में इसी प्रकार से पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर कई वारदातों को अंजाम दिया था.

बाद में पकड़े जाने पर उन्हें जेल भी जाना पड़ा था. इस संबंध में फरीदाबाद पुलिस से और जानकारी जुटाई जा रही है. एसएसपी के मुताबिक ये गैंग अब तक 15 से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बना चुका है, जिनमें से 3 पीड़ितों ने पुलिस से शिकायत की थी. पुलिस बाकी पीड़ितों को भी तलाश कर रही है.

अब अगर आप नोएडा की सड़कों पर कार चला रहे हैं और आप से सड़क पर खड़ी कोई लड़की लिफ्ट मांगे तो सोच लिजिएगा. कहीं आप भी ऐसे ही किसी गैंग का शिकार तो नहीं होने जा रहे हैं. हमारा मकसद है कि आप सावधान रहें और सुरक्षित रहें.

Source : Agency