इंदौर
फर्जी लोन घोटाले से परेशान चाय वाले ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की थी जिसको लेकर चाय वाले के पास प्रधानमंत्री कार्यालय से खत के जरिये उसकी परेशानी हल करने की बात की गई है | साथ ही प्रदेश के मुख्य सचिव को प्रधानमंत्री कार्यालय से चाय वाले के मामले में कार्यवाही करने के दिए निर्देश दिए गए हे और कार्यवाही करने के बाद पोर्टल पर उपलोड करने के भी निर्देश दिए गए है।

दरअसल, चाय की गुमटी लगाने वाले कैलाश बड़ोनिया ने पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की थी । पीड़ित कैलाश बड़ोनिया ने बताया की उसकी चाय की घूमटी पर गुरुवीर सिंह उसके बिल्डर बेटे गुरुदीप सिंह चावला रणवीर सिंह चावला चाय पीने आते थे । उसके पिता ने उसे बताया था की उसके दोनों बेटो की बैंक मैनेजर से अच्छी बात है अगर लोन की जरूरत हो तो बताना इसी को लेकर पीड़ित कैलाश बडोनियो ने ढाई वर्ष पूर्व गुरुवीर सिंह को 20 हजार रूपये का लोन बैंक से करवाने का कहा गुरुवीर सिंह पीड़ित कैलाश बड़ोनिया को कुछ दिनों बाद छावनी स्थित आंध्रा बैंक ले गया जहां पहले से गुरुवीर सिंह के बेटे गुरुदीप चावला और रणवीर चावला मौजूद थे वह कैलाश को मैनेजर के पास ले गए और वहा पर उससे कई दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवाए और बोले की तुम्हारा लोन जब होगा तब तुम्हे बता देंगे ।

कैलाश की माने तो कुछ दिनों बाद रणवीर सिंह चावला उसकी चाय की गुमटी पर आया और उसे सपना संगीता स्थित विजया बैंक ले गया और उससे विजया बैंक में कई कागजो पर हस्ताक्षर करवाए और उसे कहा की तुम्हारा लोन हो जाएगा तो तुम्हे बता देंगे एक महीना बीत जाने के बाद भी जब उसका लोन नहीं हुआ तो कैलाश ने गुरुवीर से पूछा की मेरे लोन का क्या हुआ तब गुरुवीर ने उसे उसका लोन नहीं होने की बात कही। कैलाश ने बताया की उसे दो वर्ष बाद आंध्रा बैंक का नोटिस आया तो उसे पता चला की उसके नाम पर 10 लाख रु का सीसी क्रेडिट लोन हुआ है और कुछ किस्ते भी भरी गई है जिसको लेकर उसने थाने में आवेदन दिया । वही कुछ दिनों के बाद उसे सपना संगीता स्थित विजया बैंक से भी एक नोटिस मिला जिसमे उसका नाम चार पहिया वाहन के फायनेंस में ग्यारंटर बनया गया है ।

कैलाश की माने तो वह पिछले एक साल से पुलिस अधिकारियो के चक्कर काट रहा है लेकिन दोनों बिल्डर भाई और उसके पिता पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही है इसी से आहत होकर उसने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खत लिखकर इच्छा मृत्यु की मांग की थी

इधर, प्रधानमंत्री कार्यालय से मिले खत के बाद कैलाश बड़ोनिया को इंसाफ मिलने की उम्मीद जागी है प्रधानमंत्री कार्यालय से मिले खत में कैलाश को आश्वस्त किया गया है की उसे न्याय दिलवाया जाएगा साथ ही प्रदेश के मुख्य सचिव को इस मामले में जाँच कर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश दिए गए है|

Source : Agency