भोपाल
राज्य सरकार ने इस साल 6410.41 लाख यूनिट बिजली खरीदी और इसमें तीनो विद्युत वितरण कंपनियों और एमपीएकेवीएनएल एवं रेलवे को 5940.49 लाख यूनिट वितरित की तथा अतिशेष 469.82 लाख यूनिट बिजली पावर एक्सचेंज के माध्यम से प्रदेश के बाहर बेच दी। लेकिन सरकार को यह नहीं पता है कि यह बिजली किन संस्थाओं को बेची गई।

विधायक शरदेन्दु तिवारी के सवाल के लिखित जवाब में उर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने यह जानकारी उपलब्ध कराई है। प्रियव्रत सिंह ने बताया कि प्रदेश में विभिन्न परियोजनाओं के अंतर्गत एमपी पॉवर मैनेजमेंट कंपनी के पास 20625.59 मेगावाट अनुबंधित क्षमता की बिजली उपलब्ध है। माह अप्रैल 2019 में 6410.41 लाख यूटि बिजली खरीदी गई। इसमें से अतिशेष 469.82 मिलियन यूनिट बिजली जो पावर एक्सचेंज के जरिए प्रदेश के बाहर विक्रय की गई है उस बिजली को किन संस्थाओं ने खरीदा यह जानकारी सरकार के पास उपलब्ध नहीं है।

उर्जा मंत्री  प्रियव्रत सिंह ने बताया है कि सरकार पिछले पांच साल से लगातार बिजली खरीद भी रही है और बेच भी रही है। वर्ष 14-15 में 57975.51 लाख यूनिट बिजली खरीदी गई और इसमें से 1190.48 लाख यूनिट बिजली बेची गई। वर्ष 15-16 में64395.61 मिलियन यूनिट बिजली खरीदी गई और इसमें से 1268.56 यूनिट बिजली बेची गई। वर्ष 16-17 में 64724.63 यूनिट बिजली खरीदी और इसमें से 3002.93 यूनिट बिजली बेची।

Source : Agency