लखनऊ
बुधवार रात 11 बजे से गुरुवार सुबह तक लगातार हुई बारिश ने लखनऊ शहर के हालात बिगाड़ कर रख दिए। शहर पूरी तरह जलमग्न नजर आने लगा। लोगों को चैन से रात काटना मुश्किल हो गया। घरों में पानी घुस जाने से सोने का ठिकाना ढूंढ़ना मुश्किल हो गया। सबसे खस्ताहाल आशियाना कालोनी का रहा जहां सड़क से पानी घरों और स्कूलों के अंदर तक पहुंच गया। सदर स्थित लखनऊ मांटेसरी स्कूल में बरसात का पानी भर गया। इसके चलते बच्चों को स्कूल तक पहुंचने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। 

वृन्दावन योजना, पीजीआई सेक्टर छह में 24 घण्टे से बिजली आपूर्ति बाधित हो गई। एसडीओ यह कहते रहे कि उसे फॉल्ट नहीं मिल रहा। फैजुल्लागंज समेत कई हिस्सों में सड़क धंस गई। इंदिरानगर में पेड़ गिर गया। कुछ इलाकों में जहां सीवर निर्माण कार्य के लिए गहरे गढ्ढे खोद गए थे उसमें आधा दर्जन से अधिक वाहन फंस गए। सफाई नहीं होने की वजह से सीवर ओवरफ्लो हो गए और घरों में गंदा पानी भर गया।

राजाजीपुरम के मीना बेकरी चौराहे और ई ब्लाक मार्केट में पानी भर गया। पारा के बादशाह खेड़ा ,वादर खेड़ा ,पिंक सिटी, बुद्धेश्वर, गंगा विहार, कनक सिटी, आदर्श विहार कॉलोनी सहित काकोरी मोड़ बारिश का पानी सड़कों से लोगों के घरों में भर गया। आलमबाग के कृष्णानगर स्थित इंद्रलोक कालोनी में जबरदस्त जलभराव हो गया। लोगों का जनजीवन हुआ अस्त-व्यस्त हो गया। पटेल नगर इंदिरानगर में पेड़ गिर गया जिससे बिजली की लाइनें भी टूट गईं। शिवाजीपुरम कालोनी में घरों में सीवर का पानी भर गया। चादन गांव लोगों के धरो में भरा पानी भर गया। 

आरटीओ कार्यालय में भरा पानी, फाइलें डूबीं 
कानपुर रोड स्थित आरटीओ कार्यालय जलमग्न हो गए। कई महत्वपूर्ण फाइले पानी में डूब गईं। जवाहर भवन और इंदिरा भवन परिसर समेत कई अस्पतालों और अन्य सरकारी विभागों में भी पानी भर गया। परिसर में पानी भरे होने से कर्मचारियों का ऑफिस के अंदर तक पहुंचना मुश्किल हो गया। 

आलमबाग में घरों में भरा चार फुट तक पानी, लाखों रुपए का नुकसान
आलमबाग के आजाद नगर स्थित नीलकंठ पुरी में सड़क से लेकर घरों के अंदर चार फुट तक भर पानी गया। बरसात के पानी से लोगों का लाखों रूपये का सामान पानी मे डूब गया।  जल निकासी की कोई व्यवस्था नही होने से आलमबाग के अधिकांश क्षेत्रों का बरसात मे यही हाल रहा। 

Source : Agency