सिमगा
 करेली में अकेले घर में सो रही महिला और उसके मासूम बच्चे को जिंदा जलाने के मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। जिसमें पुलिस ने बताया कि आरोपी मृतक का देवर लक्ष्मण ही है।


मृतक महिला का देवर लक्षमण ने ही भाभी और भतीजे को सोते वक्त पेट्रोल डालकर जलाया था। फिलहाल सिमगा पुलिस ने आरोपी लक्ष्मण को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि  लक्ष्मण को हत्यारा बताया था जिसकी खबर पर पुलिस ने मुहर लगा दी है।
सिमगा थाना के अंतर्गत करेली गांव में उर्मिला वर्मा (26) ने अपने बेटे गगन (5) के साथ जिंदा जल गई। कमरे में लगी आग इतनी भयानक थी कि 12 फीट तक लपटें उठीं, जिससे मकान के ऊपर बना लकड़ी के पल्ले का पटाव भी जलकर मां-बेटे पर गिर गया। इससे उनका शरीर पूरी तरह जलकर गया। वहीं पुलिस को आशंका है कि हत्या के इरादे से घर में आग लगाई गई, यही आरोप महिला के ससुर शिवचरण वर्मा अपने छोटे बेटे लक्ष्मण पर लगा रहे हैं, जो पारिवारिक विवाद के बाद अलग रह रहा है।

उनका आरोप है कि छोटा बेटा लक्ष्मण अपनी विधवा भाभी को संपत्ति में हिस्सा न देने दबाव बनाता था। फॉरेंसिक टीम के साथ घटनास्थल की जांच के बाद पुलिस को मामला प्रथम दृष्टया हत्या का लग रहा है। पंचनामा के बाद शवों को पोस्टमार्टम के लिए सिमगा ले जाया गया। महिला के देवर लक्ष्मण वर्मा को भी पुलिस अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई है। घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार उर्मिला उर्फ पिंकी नाम की उक्त महिला अपने पुत्र गगन के साथ अपने घर के कमरे में सोई हुई थी। रात 2 बजे लगी आग से दोनों मां बेटे जलने लगे जिनके चिल्लाने की आवाज बाजू के घर में अलग रह रहे उसके देवर लक्ष्मण वर्मा ने भी सुनी।

शोर सुनकर उसने अपने बड़े पिता देवसिंह वर्मा को जगाया। देवसिंह ने बताया कि उन्होंने देखा तो कमरे में आग लगी हुई थी और दोनों मां-बेटे जल रहे थे। उन्होंने दरवाजा खोलने का प्रयास किया परंतु अंदर से बंद होने के कारण खोला नहीं जा सका और बुरी तरह जल जाने से दोनों की मौत हो गई। महिला के देवर लक्ष्मण वर्मा ने बताया कि वह रात 2 बजे घर से बाहर अपनी बोरवाड़ी में शौच के लिए गया था, वापस लौटते समय भाभी की आवाज सुनकर बड़े पिताजी को बुलाने गया।

Source : Agency