सहारनपुर 
अफगानिस्तान में एयर स्ट्राइक में मारा गया अलकायदा भारतीय उप महाद्वीप (एक्यूआईएस) का चीफ आसिम उमर उर्फ सनाउल हक  2015 में प्रधानमंत्री मोदी को धमकी देकर सुर्खियों में आया था। उसने एक वीडियो जारी कर अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस्लाम का दुश्मन बताते हुए हमले की धमकी दी थी।

संभल के रहने वाले आसिम उमर के खात्मे के बाद संभल में उसके मोहल्ले दीपासराय में खुफिया निगाहें लग गई हैं। बुधवार (9 अक्टूबर) को पुलिस की जांच में परिजनों ने उसे पहचानने से इनकार कर दिया है। उधर, दारुल उलूम देवबंद ने भी उसकी पढ़ाई का रिकॉर्ड होने से इनकार किया है। उक्त आतंकी से सस्था का नाम जोड़कर दारुल उलूम को बदनाम करने की साजिश की जा रही है। संभल के दीपा सराय का रहने वाले सनाउल हक ने घर छोड़ने के बाद 1991 में देवबंद दारुल उलूम से स्नातक किया था।

इसके बाद वह पाकिस्तान चला गया और खुलकर आतंकी गतिविधियों में हिस्सा लेना शुरु किया। इसी बीच वह अलकायदा चीफ अल जवाहिरी का करीबी बन गया। अल जवाहिरी ने उसे 2014 में एक वीडियो के जरिए अल कायदा की नई यूनिट भारतीय उप महाद्वीप अलकायदा का चीफ घोषित कर दिया था। उस पर भारत, म्यांमार व बांग्लादेश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ाने का जिम्मा था।

सरगना बनने के एक साल बाद उसके उस वीडियो से सनसनी मच गई थी जब उसने मोदी को धमकी दी थी। इसी वीडियो के बाद दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के हत्थे चढ़े संभल के आतंकी आसिफ ने खुलासा किया था कि आसिम उमर ही संभल का रहने वाला सनाउल हक है।  लगातार खुफिया एजेंसिया आसिम के नेटवर्क तक पहुंचने के लिए नजर बनाए हुए हैं।

आसिफ की गिराफ्तारी से खुला था आसिम उमर का राज: संभल के सनाउल हक के अफगानिस्तान में जाकर अल कायदा की इकाई एक्यूआईएस के चीफ आसिम उमर बनने का राज चार साल पहले उसके ही साथी संभल निवासी आतंकी आसिफ व कटक के रहने वाले अब्दुल रहमान की गिरफ्तारी से खुला था।

देवबंद से तालीम, दुनियाभर में आतंक
दीनी तालीम के लिए देवबंद दुनियाभर में विख्यात हैं। यहां से पढ़कर लोग पूरी दुनिया में तालीम की रोशनी बिखेरते हैं। लेकिन कुछ लोग आतंक की राह चल पड़े हैं। वे दहशतगर्द बनकर आतंक फैला रहे हैं। पिछले आठ साल में 10 से ज्यादा आतंकी ऐसे पकड़े गए, जिन्होंने देवबंद से तालीम पाई है। इसी वजह से एटीएस-एनआईए समेत तमाम शीर्ष सुरक्षा-खुफिया एजेंसियों की नजरें हर वक्त देवबंद पर गड़ी रहती हैं। यूपी एटीएस ने तीन मार्च-2019 को देवबंद से जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शाहनवाज तेली और आकिब अहमद मलिक को गिरफ्तार किया था।

Source : Agency