नई दिल्ली
करतारपुर कॉरिडोर को लेकर लगातार अपना रुख बदलने वाले पाकिस्तान ने एक बार फिर से पलटी खाई है। पाकिस्तान ने अब कहा है कि वह 9 नवंबर को करतारपुर गुरुद्वारे के दर्शन के लिए आने वाले पहले जत्थे से भी 20 डॉलर की फीस वसूलेगा। इससे पहले पाकिस्तान ने 20 डॉलर फीस वसूलने की बात कही थी, लेकिन कॉरिडोर के उद्घाटन के दिन यानी 9 नवंबर को छूट का ऐलान किया था। खुद पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने यह ऐलान किया था, लेकिन अब भी से पाकिस्तान रुख से पलटा है।

इससे पहले 7 नवंबर को उसने पासपोर्ट जरूरी न होने की बात से भी पलटी खाई थी। पाकिस्तान की ओर से सेना ने कहा कि हम सुरक्षा कारणों से पासपोर्ट में छूट नहीं दे सकते हैं। पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा था कि हम अपनी संप्रभुता और सुरक्षा से समझौता नहीं कर सकते।

विदेश मंत्रालय ने कहा, पासपोर्ट लेकर जाएं यात्री
बता दें कि गुरुवार को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा था की करतारपुर साहिब जाने वाले भारतीय श्रद्धालुओं के लिए पासपोर्ट जरूरी होगा। कुमार ने कहा, 'पाकिस्तान की तरफ से विरोधाभासी रिपोर्ट्स आ रही हैं। कभी वे कहते हैं कि पासपोर्ट जरूरी है तो कभी कहते हैं कि यह जरूरी नहीं है। हम समझते हैं कि उनके विदेश विभाग और दूसरी एजेंसियों के बीच मतभेद हैं। हमारे पास MoU है और वह बदला नहीं है। उसके मुताबिक पासपोर्ट जरूरी है।'

Source : Agency