भोपाल
 मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार देर रात को अलग अंदाज में नजर आए। उन्होंने अपने विधानसभा क्षेत्र में कई स्थानों का औचक निरीक्षण  किया। इस दौरान उन्हें कई खामियां भी मिलीं।

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं बुदनी से विधायक शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार रात को बुदनी के शासकीय छात्रावास का अचानक दौरा किया। छात्रावास में दो दिन पहले ही अनुसूचित जाति के छात्र श्रवण पवार की संदिग्ध परिस्थितियों में हो गई थी। उसके परिजनों ने छात्रावास प्रबंधन पर आरोप लगाए।

शिवराज सिंह चौहान ने पूरे हॉस्टल का निरीक्षण और छात्रों से की चर्चा। छात्रों ने शिवराज सिंह को बताया कि हॉस्टल में पुराने गंदे बिस्तर चादर दे रहे हैं, तकिए के नाम पर सिर्फ खोल दिए है। टॉयलेट में महीनों से लाइट नहीं है। पंखे सारे खराब पड़े हुए हैं। उन्होंने कैंटीन जाकर खाने की जांच की। छात्रों को दिए जाने वाले खाने की सूची प्रबंधन से मांगी। खामियां मिलने पर छात्रावास प्रबंधन को जमकर डांटा और उनसे जवाब मांगे। छात्रावास के स्टॉक में मिले नए चादर मच्छरदानी कंबल लेकिन छात्रों को उपलब्ध ही नहीं कराए जा रहे थे। इस पर उन्होंने प्रबंधन को फिर फटकारा। शिवराज ने प्रबंधन से कहा कि मच्छरदानी तब दोगे जब बच्चों को डेंगू हो जाएगा। 25 को एसडीएम कार्यालय में जनता की अदालत में सवालों का जवाब मांगा जाएगा।

क्या बोले शिवराज सिंह
शिवराज सिंह ने गुरुवार रात को बुदनी के छात्रावास में औचक निरीक्षण करने के बाद ट्वीटर हैंडल पर तीन वीडियो जारी किए। उन्होंने कहा कि मैंने बड़े-बड़े छात्रावास बनवाए। यहां टीवी रूम से लेकर डायनिंग हॉल तक की व्यवस्था है, लेकिन अब सारी व्यवस्था अव्यवस्था में परिवर्तित हो गई हैं। पिछले साल के चादर, कंबल हैं, लेकिन बच्चों का एक से ही काम चल रहा है। बाथरूम में बल्ब नहीं है और सफाई हो नहीं रही।

    आज विदिशा सांसद श्री रमाकांत भार्गव के साथ बुधनी स्थित अनुसूचित जाति बालक सीनियर छात्रावास का निरीक्षण कर विद्यार्थियों से संवाद किया व भोजन,सफाई एवं व्यवस्थाओं के संबंध में विस्तार से चर्चा कर समस्याएं सुनकर संबंधित अधिकारियों को व्यवस्थाएं तुरंत दुरुस्त करने के निर्देश दिए।

Source : Agency