इंदौर
 शहर के चिडिय़ाघर में शुक्रवार सुबह एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया। यहां नशे में एक आदमी बाघ के पिंजरे में कूदने के लिए चढ़ गया। सही समय पर गार्ड ने उसे देख लिया और पकडक़र नीचे उतारा। उसे पुलिस को सौंपा गया है।

चिडिय़ाघर प्रभारी उत्तम यादव ने बताया कि सुबह चिडिय़ाघर में काम करने वाले गार्ड और माली ने बाघ के पिंजरे के पास एक व्यक्ति की संदिग्ध हरकतें देखी। वह पिंजरे पर चढक़र अंदर कूदने की कोशिश करने लगा तो कर्मचारियों ने प्रबंधन को वायरलेस पर सूचना दी। इसके बाद आनन-फानन में उसे पकडक़र नीचे उतारा गया। यादव का कहना है कि युवक मानसिक रूप से बीमार दिख रहा था।

वह कर्ज और परिवार से परेशान होने की बात कह रहा था। चिडिय़ाघर कर्मचारियों की सजगता से वह बच गया। चिडिय़ाघर में वह अकेला ही आया था। युवक का नाम विजय झाला है। पकड़ाने के बाद वह बहकी-बहकी बातें कर रहा था। युवक ने थाने में कहा कि घर की समस्या से परेशान हूं। एक बेटा है जो 10वीं में दो बार फेल गया है। घटना के लिए मैं खुद जिम्मेदार हूं। उसने बताया कि पिंजरे पर चढऩे में उसके कपड़े भी फट गए। बाघ उसकी तरफ काफी पास तक आ गया था।

पहले भी हो चुके हैं मामले

गौरतलब है कि इंदौर चिडिय़ाघर में पहले भी ऐसा एक मामला हो चुका है। एक युवक शेरों के बाड़े में कूद गया था। वह अंदर तक चला गया था। हालांकि उसे सकुशल बाहर निकाल लिया गया। इसी तरह एक बार बाघिन भी पिंजरे से बाहर आ गई थी। उस समय चिडिय़ाघर में अफरा-तफरी का माहौल बन गया था।

 

Source : Agency