नई दिल्ली
दिग्गज ऑलराउंडर युवराज सिंह आज अपना 38वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस मौके पर क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंडुलकर, विराट कोहली से लेकर टर्बनेटर हरभजन सिंह तक ने इस स्टालिश क्रिकेटर को जन्मदिन की बधाई दी है। सचिन ने युवी के लिए लिखा- सुपरस्टार को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं। भगवान आपको हमेशा स्वस्थ रखे युवी। बता दें कि उनका जन्म 12 दिसंबर, 1981 को हुआ था।

पंजाब के उनके साथ क्रिकेटर हरभजन सिंह ने लिखा- जन्मदिन की हार्दिक बधाई भाई युवराज सिंह। वाहेगुरु आपको हमेशा खुश रखें और आपकी हर चाहत पूरी हो। बता दें कि युवी ने इसी वर्ष इंटरनैशनल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान किया था। इस लेफ्ट हैंडर बल्लेबाज ने आखिरी बार भारत के लिए फरवरी 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ टी20 इंटरनैशनल मैच में खेला था। इससे पहले वह चैंपियंस ट्रोफी 2017 और उसके बाद वेस्ट इंडीज दौरे पर गई भारतीय टीम का हिस्सा रहे थे। उन्होंने अपने करियर का आखिरी वनडे मैच 30 जनवरी 2017 को वेस्ट इंडीज के खिलाफ एंटीगुआ में खेला।


इस मौके पर आईसीसी ने इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड को मारे गए 6 गेंदों में लगातार 6 छक्के का विडियो शेयर करते हुए युवी को हैप्पी बर्थडे बोला है। दूसरी ओर, बीसीसीआई ने वर्ल्ड कप-2011 का विनिंग मोमेंट शेयर किया है।


इसलिए कहते हैं सिक्सर किंग
2007 वर्ल्ड टी20 में इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ही ओवर में लगातार 6 छक्के और इस मैच में सिर्फ 12 बॉल पर बनाए अर्धशतक का वर्ल्ड रेकॉर्ड आज भी उनके नाम है।


ऐसा रहा क्रिकेट करियर
इस चैंपियन खिलाड़ी ने अपने इंटरनैशनल करियर में 40 टेस्ट, 304 वनडे और 58 टी20I मैच खेले। 304 वनडे में से युवराज ने भारत के लिए 301, जबकि बाकी 3 वनडे एशिया XI के लिए खेले। 40 टेस्ट की 62 पारियों में युवी के नाम कुल 1900 रन हैं, जिसमें 3 शतक और 11 हाफ सेंचुरी उनके नाम हैं।


उनके वनडे करियर की बात करें तो युवराज ने 278 पारियों में कुल 8701 रन अपने नाम किए। इस दौरान उनके बल्ले से 14 शतक और 52 अर्धशतक निकले। 58 टी20I में 1177 रन बनाने वाले युवराज ने नाम यहां 8 हाफ सेंचुरी दर्ज हैं। उन्होंने टेस्ट में कुल 9, वनडे में 111 और टी20I में 28 विकेट अपने नाम किए हैं।

जब पता चला कैंसर है
वर्ल्ड कप 2011 के बाद युवराज की सेहत से जुड़ी जो खबर सामने आई थी, उसने उनके फैन्स और भारतीय टीम को झकझोर दिया था। युवराज सिंह के फेफड़े में कैंसर ट्यूमर डिटेक्ट हुआ था और उन्हें इसके इलाज के लिए लंबे समय तक क्रिकेट से दूर रहना पड़ा था। युवराज इस ट्यूमर की पीड़ा के साथ ही वर्ल्ड कप में खेले थे और उन्होंने तब यह बात किसी को जाहिर नहीं की थी। तब वह भारत के लिए हर मैच में खुद को लगातार साबित कर रहे थे।

Source : Agency