नई दिल्ली
विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक मालदीव जाना चाहता है लेकिन उसके अनुरोध को इस द्वीप देश ने खारिज कर दिया है। मालदीव के संसद के स्पीकर मोहम्मद नशीद ने राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को पत्रकारों को बताया, 'जाकिर नाइक मालदीव आना चाहता है, लेकिन हमने उसे इजाजत नहीं दी।' नशीद ने आज पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

जाकिर के खिलाफ भारत में मनी लॉन्ड्रिंग का केस चल रहा है। इसके अलावा ढाका अटैक के संबंध में भी उसके खिलाफ केस दर्ज किया गया है। उसने मलयेशिया में पिछले तीन सालों से शरण ले रखी। भारत ने उसके प्रत्यर्पण की औपचारिक अपील की है लेकिन मलयेशिया ने यह अपील ठुकरा दी है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने सितंबर में रूस में 5वें पूर्वी आर्थिक मंच की बैठक से इतर मलयेशिया के पीएम मोहम्मद महातिर से मुलाकात की थी। इस दौरान नाइक के प्रत्यर्पण पर चर्चा हुई थी। विदेश मंत्रालय के सचिव ने विजय गोखले ने कहा था, 'पीएम मोदी ने जाकिर नाइक के प्रत्यर्पण के मुद्दे को उठाया। दोनों पक्षों ने फैसला किया कि अधिकारी इस मुद्दे पर आगे संपर्क में रहेंगे और यह हमारे लिए महत्वपूर्ण मुद्दा है।'

मलयेशिया भले ही जाकिर का प्रत्यर्पण करने से इनकार कर रहा हो, लेकिन वह खुद वहां की सरकार के मुसीबत बन गया है। उसने वहां रह रहे हिंदुओं और चीनीयों को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था जिसके बाद उसके उपदेश देने पर रोक लगा दी गई थी।

Source : Agency