रायपुर
रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड जल निकास व्यवस्था के तहत बने बड़े नालों में बहने वाले सीवरेज के पानी से मीथेन गैस पैदा करने के प्रोजेक्ट पर काम कर रहा है। इसके तहत मारवाड़ी श्मशान घाट के पास बहने वाले नाले में रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने पायलेट प्रोजेक्ट के तहत इस प्रक्रिया की शुरूआत की है।

 रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के महाप्रबंधक (तकनीकी) श्री एस. के. सुंदरानी के अनुसार यह प्रक्रिया अत्यंत ही सरल एवं न्यूनतम लागत पर आधारित है। इसमें सीवरेज में मिश्रित मीथेन को पृथक कर इसका उपयोग रसोई गैस के रूप में किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि पायलेट प्रोजेक्ट के तहत मारवाड़ी श्मशान घाट के पास मीथेन गैस पैदा करने का प्रयोग किया गया है। स्मार्ट सिटी इस मीथेन गैस के व्यवसायिक उपयोग की संभावनाओं पर काम कर रहा है। यह प्रयोग सफल होने पर बहते नाले के पास संचालित चाय ठेलो, गुमटियों व अन्य वेडिंग जोन से ईंधन गैस के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि यह प्रक्रिया अत्यधिक सरल और न्यूनतम व्यय पर आधारित है। इसलिए लघु व्यवसायी स्वयं इसका निर्माण कर ईंधन गैस पर होने वाले व्यय को कम कर सकेंगे।

Source : Agency