जबलपुर
कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के रिश्तेदार राजेंद्र यादव पर गरीब आदिवासियों की जमीन कब्जा करने के आरोप लगे हैं. ये आरोप खुद उस जमीन पर रहने वाले आदिवासियों ने लगाए हैं. इन लोगों ने एसपी के नाम ज्ञापन सौंपकर कांग्रेस नेता से जमीन मुक्त करवाने की अपील की है.

जबलपुर के एसपी कार्यालय पहुंचे सैकड़ों ग्रामीणों का जय रेवाखंड परिषद ने साथ दिया और सीएसपी अजीम खान को लिखित ज्ञापन सौंपते हुए पूरे प्रकरण की जानकारी दी.

ग्रामीणों का कहना है कि राजेंद्र यादव के गुंडे गांव पहुंचे. वे उनकी जमीन पर बुल्डोजर चलाने का प्रयास कर रहे थे. जय रेवाखंड परिषद के सदस्यों का कहना है कि वर्ष 2001 में जब राजेंद्र यादव जिला को ऑपरेटिव सोसायटी के अध्यक्ष थे तो उन्होंने कठौंदा के आदिवासियों की जमीन के दस्तावेजों में हेराफेरी कर अपने नाम पर करवा ली थी.

कई सालों बाद जब गरीब आदिवासियों को इसका पता चला तो उन्होंने इसकी शिकायत भी जिला प्रशासन से की लेकिन किसी ने कोई कार्रवाई नहीं की.

शिकायत करने पहुंचे आदिवासियों के साथ उनके बच्चे भी थे जो हाथ जोड़कर पुलिस अधिकारियों से उनका सहारा बचाने की अपील कर रहे थे. बहरहाल अधिकारियों ने प्रकरण की जांच कराने का आश्वासन दिया है.

Source : Agency