नई दिल्ली 
रेकॉर्ड्स बनते ही टूटने के लिए हैं लेकिन क्रिकेट के मैदान पर कई बार ऐसे रेकॉर्ड्स बन जाते हैं, जिनका टूटना किसी अन्य के लिए मुश्किल नजर आता है। क्रिकेट के खेल के कुछ ऐसे भी रेकॉर्ड्स हैं, जिनको तोड़ पाना लगभग नामुमकिन ही है। आइए नजर डालते हैं, उन रेकॉर्ड्स पर... 

डॉन ब्रैडमैन
लेजंड बल्लेबाज ऑस्ट्रेलिया के डॉन ब्रैडमैन के नाम टेस्ट क्रिकेट में ऐसा रेकॉर्ड है जिसका टूट पाना असंभव लगता है। 'डॉन' के नाम से मशहूर ब्रैडमैन का टेस्ट ऐवरेज 99.94 का रहा। उन्हें करियर के अंतिम टेस्ट मैच में अपना ऐवरेज 100 के पार करने में केवल 4 रन की दरकार थी लेकिन वह चूक गए। ब्रैडमैन ने करियर में 52 टेस्ट मैच खेले और कुल 6996 रन बनाए। उनके नाम 29 शतक और 13 अर्धशतक दर्ज हैं। 

सर जैक होब्स 
'द मास्टर' के नाम से मशहूर इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर सर जैक होब्स के नाम एक ऐसा रेकॉर्ड है जिसका टूट पाना नामुमकिन ही लगता है। होब्स ने अपने फर्स्ट क्लास क्रिकेट करियर में 834 मैच खेले जिनमें कुल 61760 रन बनाए। इसके अलावा उनके नाम फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 199 शतक और 273 अर्धशतक दर्ज हैं। वह इंग्लैंड के लिए 61 टेस्ट मैच भी खेले और कुल 5410 रन बनाए। उन्होंने टेस्ट करियर में 15 सेंचुरी और 28 हाफ सेंचुरी भी लगाईं। होब्स का निधन 81 साल की उम्र में 21 दिसंबर 1963 को हुआ था। 

सचिन तेंडुलकर 
इंटरनैशनल क्रिकेट के सभी (टेस्ट, ODI और टी20i)फॉर्मेट में कुल रनों की बात की जाए, तो यहां भारत के दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंडुलकर का नाम आता है। सचिन के नाम 34357 रन हैं। सचिन के बाद अभी तक दुनिया का कोई भी बल्लेबाज 30 हजार का आंकड़ा भी नहीं छू पाया है। वर्तमान में क्रिकेट खेल रहे खिलाड़ियों में फिलहाल विराट कोहली सबसे आगे हैं। लेकिन उनके नाम अभी 18000+ रन हैं और वह सचिन से 15 स्थान पीछे हैं। यानी विराट को सचिन को पछाड़ने के लिए अभी लंबा सफर तय करना है। 

सबसे ज्यादा इंटरनैशनल शतक 
इस मामले में भी लिटिल मास्टर ही सर्वोच्च पर हैं। सचिन के नाम टेस्ट और वनडे में मिलाकर कुल 100 (टेस्ट 51, वनडे 49) शतक हैं। फिलहाल क्रिकेट खेल रहे खिलाड़ियों की बात की जाए, तो यहां भी विराट का नाम है, जिनके नाम 59 शतक हैं और इंटरनैशनल शतकों के मामले में विराट अभी 5वें स्थान पर हैं। फिलहाल सचिन का यह रेकॉर्ड भी सुरक्षित दिखता है। 

मुथैया मुरलीधरन
महान लेग स्पिनर मुथैया मुरलीधरन के विकेटों के रेकॉर्ड को तोड़ पाना किसी भी गेंदबाज के लिए दूर की कौड़ी सा लगता है। श्री लंका के मुरलीधरन ने 133 टेस्ट मैचों में कुल 800 विकेट झटके। टेस्ट क्रिकेट में उनके इस रिकॉर्ड के आसपास भी कोई खिलाड़ी नहीं है। एक समय मुरली और ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉर्न (708 विकेट) के बीच टेस्ट मैच के विकेटों की जंग चली, जिसके अंत में मुरली ही विजयी रहे। 

टेस्ट मैच की एक पारी में 10 विकेट
टेस्ट क्रिकेट का यह ऐसा नायाब रेकॉर्ड है। इस रेकॉर्ड की बराबरी तो की जा सकती है लेकिन इसे तोड़ा नहीं जा सकता। टेस्ट इतिहास में अभी तक सिर्फ 2 ही बार ऐसा हो पाया है, जब एक बोलर ने एक पारी के सभी 10 विकेट अपने नाम किए हों। सबसे पहले 1956 में इंग्लैंड के जिम लेकर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 53 रन देकर 10 विकेट लिए थे। इसके बाद 1999 में अनिल कुंबले ने पाकिस्तान के खिलाफ फिरोजशाह कोटला टेस्ट में 74 रन देकर यह कारनामा किया। 

ब्रायन लारा
वेस्ट इंडीज के दिग्गज बल्लेबाज ब्रायन लारा के नाम एक ऐसा रेकॉर्ड है जिसे तोड़ पाना किसी भी बल्लेबाज के लिए काफी मुश्किल है। लारा ने टेस्ट मैच की एक पारी में 400 रन बनाए हैं। लारा ने 582 गेंदों की अपनी पारी में 43 चौके और 4 छक्के जड़े। वह अपनी इस पारी के दौरान 778 मिनट तक मैदान पर रहे। तब लारा की कप्तानी में टीम ने 5 विकेट पर 751 रन बनाए थे। 

श्री लंका का विशाल स्कोर 
टेस्ट क्रिकेट में आज के दौर में किसी भी बल्लेबाज के लिए हालात काफी मुश्किल रहते हैं लेकिन श्री लंका ने एक बार इतना विशाल स्कोर बना डाला था, जिसका टूट पाना नामुमकिन ही लगता है। 1997 में भारत ने श्री लंका का दौरा किया और उस दौरे के पहले ही टेस्ट मैच की अपनी पहली पारी 6 विकेट पर 952 रन बनाकर घोषित कर दी। सनथ जयसूर्या 340 रन बनाकर प्लेयर ऑफ द मैच रहे। मैच में रोशन महानामा ने 225 और अरविंदा डि सिल्वा ने 126 रन की पारियां खेली थीं। 

एक ओवर में 17 गेंद
इंटरनैशनल क्रिकेट में खिलाड़ी अनुशासित ही दिखते हैं और बमुश्किल ही ऐसे मौके होते हैं, जब खिलाड़ी अपने एक ही ओवर में 2 या 3 बार वाइड या नो बॉल फेंक दे। लेकिन 2004 में एशिया कप में पाकिस्तान के तेज गेंदबाज मोहम्मद समी ने एक मैच में अपना ओवर पूरा करने लिए 17 बार बॉल फेंकी। समी के इस ओवर में 22 रन खर्च हुए थे, जिसमें उन्होंने 7 वाइड और 4 नो बॉल फेकीं। यह आज भी इंटरनैशनल क्रिकेट का सबसे लंबा ओवर है। 

क्रिस गेल 
टी20 क्रिकेट में क्रिस गेल ने ऐसी धुआंधार पारी खेली कि सारे वर्ल्ड रेकॉर्ड ध्वस्त हो गए। क्रिस गेल ने महज 30 बॉल में सेंचुरी जड़ दी। गेल का यह शतक किसी भी फॉर्मेट में सबसे तेज शतक है। इस पारी में उन्होंने 11 छक्के और 8 चौके मारे। इस पारी में उन्होंने महज 66 बॉल पर नाबाद 175 रन बनाए। गेल की इस ऐतिहासिक पारी में 13 चौके और 17 छक्के शामिल थे। टी20 क्रिकेट में यह रेकॉर्ड टूटना नामुमकिन लगता है। 
 

Source : Agency