धनतेरस के मौके पर सोना, चांदी, बर्तन या जूलरी खरीदना शुभ माना जाता है। आप और हम ही नहीं, इस परम्परा का पालन छोटे पर्दे के सितारे भी करते हैं। इस खास मौके पर टीवी स्टार्स बता रहे हैं, अपनी धनतेरस की प्लानिंग।

दिव्यांका त्रिपाठी : सासू मां की शॉपिंग
इस धनतेरस मैं अपनी सासू मां के लिए कुछ खास चीज खरीदने की प्लानिंग कर रही हूं। धनतेरस पर हम हमेशा चमचमाते बर्तन खरीदते थे। इस दिन हम अपने किचन की कायाकल्प कर दिया करते थे। हम इस मौके पर सोने के सिक्के भी खरीदते हैं, जिसका इस्तेमाल पूजा में होता है।

गौतम रोडे : मंदिर के दर्शन होंगे और प्रीति भोज भी
इस धनतेरस मैं परिवार के लिए सोने के कुछ सिक्के खरीद रहा हूं, जैसा कि हम आमतौर पर उस दिन निवेश करते हैं। इस दिन हमारा पूरा परिवार पूजा के लिए मंदिर जानेवाला है। हम अपने घर के लिए नया सामान खरीदेंगे, फिर सभी के साथ एक स्वादिष्ट प्रीति भोज का मजा लेंगे।

सौरभ राज जैन : सोने का सिक्का खरीदूंगा
धनतेरस हमारे लिए भाग्य का पिटारा लेकर आता है। इस मौके पर मेरी मां हर साल एक सोने का सिक्का खरीदती हैं, जो मुझे लगता है कि गहने खरीदने से बेहतर होता है, क्योंकि यह एक उपयुक्त इन्वेस्टमेंट हो सकता है और इससे आप कुछ और भी खरीद सकते हैं।

जूही परमार: बेटी के बनाए हुए नेम प्लेट से मनेगा धनतेरस
भौतिक उपहार में इन्वेस्ट करने के बजाय, इस दीवाली हमारा निवेश हमारी नेम प्लेट में होगा और नेम प्लेट इसलिए विशेष है,क्योंकि इसे मेरी बेटी समैरा ने इसे खुद बनाया है। मुझे लगता है कि इस दिवाली मैं अपने बच्चे की रचनात्मकता में इन्वेस्ट कर रही हूं, क्योंकि मैं उन्हें और ज्यादा प्रोत्साहित करना चाहती हूं। मैं एक गौरवान्वित मां हूं, क्योंकि मेरी छोटी राजकुमारी ने इसे अपने नन्हें हाथों और बेहद प्यार से बनाया है। समैरा ने यह नेम प्लेट बहुत सारे प्यार और सकारात्मकता के साथ बनाया है।

नीलू कोहली: नया बर्तन खरीदकर मीठा बनाना है
धनतेरस हमारे घर में विशेष रूप से मनाया जाता है। हर साल मैं एक बड़ा बर्तन खरीदती हूं और हम उसमें कुछ मीठा बनाते हैं। मैं अपने बच्चों के जन्मदिन पर हर साल सोने के सिक्के खरीदती हूं और जब मेरे बेटे ने शादी की, तो मैंने उन सिक्कों का इस्तेमाल किया। अब, जब मेरी बेटी की शादी होगी, तो मैं उनका भी उपयोग करूंगी। धनतेरस से एक दिन पहले, मैं घर को सजाती हूं, जिसकी रौनक लोहड़ी तक रहती है।

शशांक व्यास: गुजरी हुई मां की याद में मनाऊंगा धनतेरस
मेरी मां गीता, जो अब हमारे साथ नहीं रहीं, हमेशा कुछ खरीदती थीं और उनके गुजर जाने के बाद मैं हर बार सोना खरीदकर उस परंपरा का पालन करता हूं। धनतेरस दिवाली उत्सव की शुरुआत करता है और मेरा मानना है कि हमारे व्यस्त जीवन में से हमें सभी परंपराओं का पालन करने के लिए कुछ समय निकालना चाहिए। धनतेरस और दिवाली दोनों त्योहार सकारत्मकता लाते हैं।

स्नेहा वाघ: धनतेरस सकारात्मक महसूस करवाता है
मैं हर धनतेरस पर सोने की चीजें खरीद कर परम्परा का पालन करती हूं, चाहे वह सोने का सिक्का हो या कुछ भी छोटा-मोटा गहना। हम लड़कियों को किसी भी तरह की खरीदारी करना बहुत पसंद आता है।धनतेरस के दौरान यह मेरा वार्षिक नियम है और मेरा मानना है कि हर लड़की को इस अवसर पर आभूषण खरीदने चाहिए।

पूजा बनर्जी: सोने और चांदी के सिक्के खरीदूंगी
मैं आम तौर पर समृद्धि के लिए सोने के सिक्के और चांदी का सामान खरीदती हूं। यह वर्ष मेरे लिए अच्छा रहा है और जहां तक त्योहारों का सम्बंध है, मैं काफी पारंपरिक हूं। एक बोंग होने के नाते मैं हमेशा कोलकाता से बाहर ही रही हूं, इसलिए मुझे जब भी त्योहार मनाने का मौका मिलता है, तो मैं पूरे दिल से मनाती हूं।

शरद मल्होत्रा: सोने की चेन खरीदूंगा
मैं इस धनतेरस में चांदी के साथ-साथ सोने की चेन खरीदने का इरादा रखता हूं| कोलकाता में मेरी मां हमेशा सोना और चांदी खरीदती थी। मेरी मां का कहना है कि इस मौके पर किसी भी चांदी या सोने की चीजें खरीदना अच्छी किस्मत और समृद्धि का प्रतीक होता है और आज के समय में जब हमारे जीवन पर तकनीक और पाश्चात्य सभ्यता का प्रभुत्व है, तो ये रीति-रिवाज और उत्सव हमें अपनी जड़ों से जोड़े रखते हैं।

अर्जुन बिजलानी: बेटे को धनतेरस की परम्परा सिखानी है
में धनतेरस पर हमेशा सोने के बिस्किट्स खरीदता हूं। धनतेरस के मौके पर अपने बेटे के साथ खरीदारी करने में मुझे बहुत आनंद आता है| मुझे इस बात की खुशी है कि मेरा बेटा इन सब रीति-रिवाजों को समझ रहा है| घर पर बुजुर्गों द्वारा अनुष्ठानों का पालन करना बहुत जरूरी है, तभी बच्चे भी इनका पालन कर सकते हैं।

Source : Agency