मुंबई 
हीरा गोल्ड नाम की कंपनी जिस पर 500 करोड़ रुपये का घपला और धोखाधड़ी करने का केस चल रहा है, इस कंपनी में इन्वेस्टर करने वाले डिपॉजिटर्स की लिस्ट में 2 रिटायर्ड पुलिस इंस्पेक्टर भी शामिल थे जिन्होंने अपने परिवार के साथ मिलकर हीरा ग्रुप ऑफ कंपनीज की अलग-अलग स्कीम में करीब 20 लाख रुपये निवेश किए थे। इसके अलावा हीरा गोल्ड की ठाणे ऑफिस के एक कर्मचारी ने भी इस स्कीम में 1 करोड़ 30 लाख रुपये का निवेश किया था। 
 
2 लाख से ज्यादा निवेशकों के साथ पोंजी स्कीम 
इस इन्वेस्टमेंट कंपनी की डायरेक्टर 45 साल की उम्र में बुरका पहनने वाली सिंगल मदर नौहेरा शेख है जिसने 2 लाख से ज्यादा निवेशकों के साथ पोंजी स्कीम चला रखी थी। मुंबई पुलिस ने धोखाधड़ी के इस मामले में नौहेरा की भूमिका को लेकर उनके पूछताछ की और आज नौहेरा को एस्प्लांडे कोर्ट में पेश किया जाएगा। 
 
150 से ज्यादा निवेशकों ने पुलिस से की शिकायत 
पिछले 2 सप्ताह में करीब 150 निवेशक मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) में शिकायत करने पहुंचें और इन लोगों ने बताया कि उन्हें उनके निवेश का लाभ नहीं दिया जा रहा है और कंपनी ने उनके साथ धोखाधड़ी की है। मुंबई पुलिस के एक ऑफिसर ने बताया, 'निवेशक लगातार हमारे पास आ रहे हैं और हमने उन लोगों की विस्तृत जानकारी और कंपनी ने उनके साथ कितने पैसों का घपला किया है इन बातों को लिख लिया है।' 

5 साल में कंपनी को नहीं हुआ कोई घाटा 
हीरा गोल्ड कंपनी के ही ज्यादातर कर्मचारियों ने अलग-अलग स्कीम्स में पैसा निवेश कर रखा था। हीरा ग्रुप अपने निवेशकों को सालाना 36 से 42 प्रतिशत तक प्रॉफिट देता था। निवेशकों का दावा है कि पिछले 5 साल में कंपनी को कभी कोई घाटा नहीं हुआ। कंपनी का दावा था कि वे सोना खरीदने और बेचने का काम करती है। कंपनी मुंबई से ही सोना खरीदती थी और देशभर के अलग-अलग शहरों में मौजूद अपने आउटलेट्स के जरिए सोने को बेचकर हर साल काफी मुनाफा कमाती थी। हीरा ग्रुप की 3 कंपनियों का मिलाकर सालाना टर्नओर 1 हजार करोड़ का था। 

हैदराबाद पुलिस ने पहले किया था गिरफ्तार 
हालांकि नौहेरा शेख द्वारा चलायी जा रही 3 कंपनियां- हीरा गोल्ड, हीरा टेक्सटाइल्स और हीरा एक्सिम ने मई 2018 से पैसों के मामले में घपला करना शुरू कर दिया था। नौहेरा शेख को सबसे पहले हैदराबाद पुलिस ने अक्टूबर 2017 में गिरफ्तार निवेशकों से धोखाधड़ी करने के मामले में गिरफ्तार किया था जिसके बाद मुंबई पुलिस ने बाद में उन्हें अपनी कस्टडी में ले लिया। 

कंपनी से जुड़ी प्रॉपर्टीज होंगी नीलाम 
नौहेरा शेख के वकील विनीत डांडा का कहना है कि कंपनी ने इसी साल दिसंबर से निवेशकों का पैसा लौटाने की प्लानिंग कर रखी थी। पुलिस का कहना है कि उन्होंने कई ऐसी प्रॉपर्टी की पहचान की है जो कंपनी की है और इन प्रॉपर्टीज को नीलाम किया जाएगा ताकि उससे मिलने वाले पैसे को शिकायतकर्ता निवेशकों के बीच बांटा जा सके। 
 

Source : Agency