उज्जैन
उज्जैन सांसद चिंतामणि मालवीय ने रात 9 बजकर 58 मिनट पर पटाखा फोड़ा. लेकिन पुलिस तो पहले से उनके घर पर मौजूद थी. दरअसल सांसद ने ऐलान कर रखा था कि वे सुप्रीम कोर्ट का आदेश नहीं मानेंगे और अपने मुहूर्त के मुताबिक 10 बजे के बाद ही पटाख़े चलाएंगे.

सांसद के इस ऐलान के बाद माधव नगर थाना पुलिस और प्रशासनिक अफसर उससे पहले ही उनके घर पर जा धमके. टीम ने वहां डेरा डाल दिया. रात करीब ९.30 बजे जब अधिकारियों ने सांसद को बताया कि अगर आप सुप्रीम कोर्ट का आदेश नहीं मानेंगे और रात 10 बजे के बाद पटाख़ें फोड़ें तो आपके ख़िलाफ अवमानना का केस दर्ज हो सकता है.

पुलिस के पहुंचने की ख़बर सुनकर बड़ी संख्या में सांसद के समर्थक भी वहां पहुंच गए और नारेबाज़ी शुरू कर दी. लेकिन आख़िरकार सांसद मान गए और उन्होंने समय सीमा ख़त्म होने से ठीक दो मिनट पहले 9 बजकर 58 मिनट पर बम फोड़ा.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद उज्जैन सांसद चिंतामणि मालवीय ने कहा था कि मैं तो 10 बजे के बाद ही पटाख़े फोडूंगा. प्रशासन इस ख़बर पर अलर्ट था कि कहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवहेलना न हो जाए. सांसद ने समय सीमा में पटाख़ा चलाया और फिर कहा मैं सुप्रीम कोर्ट के आदेश का सम्मान करता हूं.

Source : Agency