छतरपुर
मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले में कांग्रेस में बड़ी बगावत हो गई है। पार्टी को यहां से बड़ा झटका लगा है। इंदिरा के जमाने के खाटी कांग्रेसी नेता सत्यव्रत चतुर्वेदी के बेटे ने कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने से बगावत कर दी। गुरूवार को उन्होंने समाजवादी पार्टी से अपना नामांकन राजनगर विधानसभा सीट से दाखिल किया है। इस दौरन उनके साथ पिता सत्यव्रत भी मौजूद रहे है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने टिकट नहीं देकर बड़ी गलती की है। 

नामांकन भरने के दौरान हजारों की संख्या में लोगों के साथ तहसील प्रांगड़ के बाहर सत्यव्रत चतुर्वेदी ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुये अपने परिवार द्वारा दिये गये योगदान को बताया। उन्होंने कांग्रेस पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने 15 साल से जो गलती की है वो गलती बार बार दोहरा रही है। इसलिए अब वह जनता के बीच जाकर इस अन्याय के खिलाफ आवाज उठाएंगे और एक पिता के रूप में अपने बेटे का प्रचार के दौरन सहयोग करेंगे। नितिन चतुर्वेदी ने बताया कि सत्यव्रत चतुर्वेदी मेरे पिता हैं उनका आर्शीवाद सदैव मेरे साथ है। लेकिन पिता आज भी कांग्रेस में हैं। 

गौरतलब है कि इस बार छतरपुर बगावत को लेकर खबरों में बना है। यहां लगातार प्रत्याशियों का विरोध हो रहा है। जिले की सभी पांचों सीटों पर बागियों ने मोर्चा खोल दिया है और निर्दलीय चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है। महाराजपुर से पूर्व सांसद जीतेंद्र सिंह बुंदेला,राजनगर से पूर्व जिलाध्यक्ष व खजुराहो विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष घासीराम पटेल और बुंदेलखंड विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विजय बहादुर सिंह बुंदेला, चांदला से नगर परिषद अध्यक्ष अनित्या सिंह, बड़ामलेहरा से जिला उपाध्यक्ष रामनाथ यादव, भाजयुमो प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य मनोज यादव और विधायक रेखा यादव और बिजावर से कांग्रेस के राजेश शुक्ला बाग़ी हो गए हैं।

Source : Agency