नई दिल्ली

पृथ्वी साव, इस नाम को सुनते ही अब लोगों के मन में सचिन तेंडुलकर की तस्वीर सामने आ जाती है। सचिन की तरह पृथ्वी साव ने स्कूल क्रिकेट में बड़े रन बनाए, तेंडुलकर की तरह साव ने रणजी, दिलीप ट्रोफी के डेब्यू में शतक जड़े। यही नहीं, साव ने सचिन से एक कदम आगे निकलते हुए अपने टेस्ट करियर का आगाज भी शतक के साथ किया। इन सभी के बीच एक बात शायद ही आप जानते हों कि मास्टर ब्लास्टर ने बहुत पहले ही पृथ्वी के बारे में भविष्यवाणी कर दी थी। 
 
शतकीय पारी के बाद दिए एक इंटरव्यू में साव की तारीफ में सचिन ने बताया था, 'मैंने साव को जितना देखा है, वह चीजों को जल्दी समझ जाते हैं। मेरे लिए प्रतिभा होना अलग बात है, लेकिन आप उसका इस्तेमाल कैसे करते हैं, यह दूसरी बात। इंटरनैशनल लेवल पर सफल होने के लिए चाहिए की आप जल्दी चीजों को सीख जाएं, यह बात साव में दिखती है। मुझे लगता है कि साव की सबसे बड़ी ताकत यही है कि वह अपने आप को स्थिति और हालत के हिसाब से ढाल लेते हैं।' 
 
साव-सचिन की पहली मुलाकात 
साव और सचिन की पहली मुलाकात लगभग 10 साल पहले हुई थी। सचिन के एक दोस्त जगदीश चव्हाण ने साव से उनको मिलाया था। सचिन ने बताया कि उस वक्त जगदीश ने कहा था, 'एक नया लड़का है, तुमसे मिलना चाहता है, अगर तुम देख लो तो उसे अच्छा लगेगा।' 

भारत का भविष्य 
तब साव सचिन से मिलकर अपने खेल को सुधारने के लिए राय लेना चाहते थे। पल को याद करते हुए सचिन ने बताया था, 'मैंने साव को देखते ही कह दिया था कि यह लड़का भारत के लिए जरूर खेलेगा, मैंने जगदीश को कहा था यह भारतीय क्रिकेट का भविष्य है।' इसपर जगदीश ने सचिन से पूछा, 'क्या तुम्हें पूरा भरोसा है?' इसपर सचिन ने फिर कहा, 'मेरे शब्द याद रखना, यह लड़का पक्का भारत के लिए खेलेगा।' 

साव की आगे तारीफ करते हुए सचिन ने कहा था कि जिस तरह से वह गेंद पर नजरें जमा कर रखते हैं, वह काफी अच्छा है। सचिन ने साव की लाइन और लेंथ की भी तारीफ की। उन्होंने कहा कि यही साव का नैचरल टैलंट है। सचिन ने आगे कहा कि अभी साव को काफी लंबा सफर तय करना है। इसके लिए उन्हें अपने खेल को निखारना होगा और खेल के लिए भूख को जिंदा रखना होगा। 
 

Source : Agency