नई दिल्ली

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने देश भर में 31 अक्टूबर से अपने एटीएम से कैश निकालने की सीमा को 40 हजार से कम करके 20 हजार कर दिया है। ऐसे में, कुछ तकनीकी गड़बड़ी के चलते पंजाब में कुछ लोगों की चांदी हो गई। एसबीआई का सर्वर डाउन होने से पंजाब के कुछ सरकारी कर्मचारियों के खाते में डबल सैलरी आ गई। हालांकि, एसबीआई अब उनके खाते सील करने जा रही है। वहीं, कई और राज्यों में एटीएम से पैसे निकालते वक्त कई लोगों के खाते से रकम तो डिडक्ट हो गई, लेकिन एटीएम से रकम नहीं निकली। 
 

सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण हुई गलती
बैंक के कर्मचारियों के मुताबिक, पंजाब सरकार ने सभी विभागों को निर्देश दिए थे कि वे अपने कर्मचारियों को इस बात की सूचना दें कि कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर में गड़बड़ी के कारण उनके बैंक खातों में दोगुना वेतन पहुंच गया है। इसके बाद सरकार ने एक सर्कुलर जारी करके कर्मचारियों को बताया कि वे अपने खातों से अतिरिक्त वेतन न निकालें।
 
बाकी खाते होंगे सील
कई खातों से अतिरिक्त रकम की रिटर्न एंट्री करा ली गई, लेकिन खातों की संख्या बहुत अधिक होने के कारण बैंक बचे हुए खातों को सील कराने जा रहा है। बैंक ने कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि अगर लोगों ने अपने खातों में आई अतिरिक्त राशि को निकाल लिया है, तो उसे अपने विभाग के कैशियर के पास जमा कराएं, वर्ना ब्याज सहित उस राशि की भरपाई करनी होगी।
 
फ्रॉड ट्रांजैक्शन रोकने के लिए बैंक ने उठाया यह कदम
बैंक ने एटीएम से कैश निकालने की सीमा को कम करने का फैसला धोखाधड़ी की कई शिकायतें आने के बाद लिया। बैंक के मुताबिक, लोगों को ज्यादा से ज्यादा डिजिटल और कैशलेस ट्रांजैक्शन के लिए प्रेरित करने को लिमिट घटाई गई है। यह लिमिट 31 अक्टूबर से देश के सभी SBI एटीएम पर लागू हो गई है।
 

Source : Agency