रायपुर।
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा को एक और झटका लगा है। टिकट नहीं मिलने से नाराज सतनामी समाज के गुरु बालदास अपने बेटे के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। गुरु बालदास के बेटे खुशवंत साहेब ने आरंग विधानसभा से भाजपा से टिकट की दावेदारी की थी, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिला। इसके बाद गुरु बालदास और उनके बेटे कांग्रेस में शामिल हो गए। गौरतलब है कि सतनामी समाज में गुरु बालदास के काफी अनुयायी हैं।

आपको बता दें कि पिछले चुनाव में 10 ओबीसी सीट में से 9 पर भाजपा की जीत हुई थी। तब सतनामी गुरु बाल दास ने भाजपा की लिए प्रचार किया था। सीएम ने बाल दास को हेलीकॉप्टर भी उपलब्ध कराया था। बाल दास का कांग्रेस में आना भाजपा के लिए बड़ा झटका है। बाल दास ने हेलीकाप्टर प्रचार पट कहा, मुझे जरूरत नहीं। सतनाम सेना काफी है, हम तो घर घर में हेलीकाप्टर बांधकर रखते हैं। अनुसूचित जाति वर्ग के प्रभाव वाली सीटों पर गुरु बालदास की काफी पकड़ है। कांग्रेस के पाले में एक और सतनामी धर्मगुरु गुरु रुद्र कुमार भी हैं। गिरोधपुरी में गुरु रुद्र और उनके पिता विजय गुरु का वर्चस्व है।

 
साल 2017 में अमित शाह अपने दौरे पर गुरु बालदास से मिले थे। तब से ये कयास लगाए जा रहे थे कि बालदास भाजपा में शामिल हो सकते हैं और उनके बेटे को आरंग से टिकट मिल सकता है। लेकिन सूची जारी होने के बाद सारे समीकरण बदल गए। गुरु बालदास के कांग्रेस में शामिल होने के बाद भाजपा के लिए परेशानी हो सकती है।

Source : Agency