ग्वालियर /जयपुर
पांच दिन बाद राजस्थान में 200 सीटों के लिए मतदान होना है। मध्यप्रदेश के बाद कांग्रेस ने अपना रुख राजस्थान की तरफ किया है। अब मध्यप्रदेश के बड़े नेता राजस्थान में सभाएं करने जा रहे है। इसी कड़ी में आज गुना  सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया जयपुर पहुंचेंगें और कार्यकर्ताओं में जोश भरेंगें। वही सोमवार को वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह वहां पहुंचेगेऔर सभाएं लेंगें। हालांकि दिग्विजय मध्यप्रदेश की राजनीति से दूर रहे थे, पूरे चुनाव के दौरान कांग्रेस ने उनसे दूरी बनाए रखने को कहा था,लेकिन राजस्थान में खुद कांग्रेस उन्हें भेज रही है।

दरअसल, राजस्थान मप्र से सटा राज्य है। राजस्थान में 1993 के बाद से हर पांच साल पर सरकार बदलती रही है। सत्ता की अदला-बदली भाजपा और कांग्रेस के बीच होती रही है। वर्तमान में सिंधिया युवा और कांग्रेस का बड़ा चेहरा है, इसके साथ ही ग्वालियर-चंबल से जुड़े राजस्थान के इलाके में भी उनकी लोकप्रियता कम नही है।वही सचिन पायलट से निकटता के चलते कांग्रेस ने अंतिम दौर मे सिंधिया को आगे किया है।इसी तरह दिग्जिवय सिंह की राजस्थान में रिश्तेदारी है साथ ही उनका वहां अच्छा संपर्क है जिसके चलते कांग्रेस ने उनका नाम आगे बढ़ाया है।

ऐसा रहेगा कार्यक्रम-
सिंधिया की सभाएं

  • रविवार को हवा महल विधानसभा सीट पर चुनावी सभा को संबोधित करेंगे। 
  • सोमवार वे उदयपुर की तीन विधानसभा सीटों उदयपुर, गोगुंडा व बारी सादरी सुबह से दोपहर एक बजे तक तीन सभाएं लेंगे।
  • उदयपुर से सिंधिया पूर्वान्ह वापस दिल्ली लौट जाएंगे।

दिग्विजय की सभाएं

  • सोमवार को छाबरा विधानसभा क्षेत्र में दो सभाएं लेंगे।
  • मंगलवार को झालरापाटन विधानसभा क्षेत्र की चार चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे।

मध्यप्रदेश के इन जिलों से सटा हैं राजस्थान
मुरैना, श्योपुर, शिवपुरी, गुना, राजगढ़, शाजापुर, उज्जैन, रतलाम, मंदसौर और नीमच।

Source : Agency