हनुमानगढ़            
राजस्थान और तेलंगाना विधानसभा चुनाव में प्रचार के लिए आखिरी 48 घंटे बचे हैं. ऐसे में सभी राजनीतिक दल अपनी पूरी ताकत झों रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राजस्थान में तीन रैलियों को संबोधित करेंगे. इसके अलावा पीएम मोदी राजधानी जयपुर में रोड शो भी कर सकते हैं. प्रधानमंत्री ने सबसे पहले राजस्थान के हनुमानगढ़ में रैली को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री मोदी ने सीकर में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान को तो पता चल गया कि सर्जिकल स्ट्राइक क्या होता है, लेकिन भारत में बैठे पाकिस्तान के जन्मदाताओं को समझ नहीं आ रहा है. कांग्रेस पार्टी आए दिन हमारी सेना का अपमान करती है. सेना के लिए अभद्र भाषा का प्रयोग करती है, हमारे जवान सर्जिकल स्ट्राइक करके आए. पूरा देश जोश से भरा था, लेकिन कांग्रेस पार्टी में ऐसा लग रहा था जैसे कोई शोक सभा चल रही है.

सीकर से पीएम मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर पलटवार करते हुए कहा कि चुनाव में अपनी पराजय को देखकर कांग्रेस के नामदार भारत माता का अपमान करने पर तुले हैं. इंडिया इज इंदिरा से लेकर के भारत मां की जय के बजाए सोनिया गांधी की जय बोलना नामदार का चरित्र है, हम तो जिएंगे भी भारत मां के लिए और मरेंगे तो भी भारत मां के लिए.

इससे पहले अलवर के मलखेड़ा में राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने राजस्थान के युवाओं को धोखा दिया है. पीएम बनने के बाद वे किसी और की चौकीदारी कर रहे हैं. पीएम हर रैली में नारे लगवाते हैं भारत माता की जय. उन्हें कहना चाहिए ललित मोदी की जय, नीरव मोदी की जय और अनिल अंबानी की जय.

उन्होंने भाषण की शुरुआत में कहा कि सीकर यानी शौर्य, सौन्दर्य, शिक्षा और संस्कार. मुझे सीकर की इस धरती पर आकर बहुत गर्व हो रहा है. शेखावटी की पहचान दो कारणों से है, दाल-बाटी-चूरमा और शेखावटी के सूरमा. दाल-बाटी-चूरमा खाकर यहां के नौजवान देश की गौरवगाथा लिख रहे हैं.

इससे पहले, हनुमानगढ़ में चुनावी रैली में प्रधानमंत्री ने कहा कि आज नौसेना दिवस है, हम उन्हें बधाई देते हैं. इसी धरती के बेटे एडमिरल विजय सिंह शेखावत, एडमिरल माधवेंद्र सिंह ने देश की सेवा की. नौ सेना की 6 बेटियों मेक इन इंडिया की नाव में पूरे विश्व का चक्कर लगाने निकल पड़ीं.

कांग्रेस की वजह से गया करतारपुर

उन्होंने कहा कि सत्ता के मोह में संतुलन भी खो जाए, राजगद्दी जल्द से जल्द मिल जाए इसके लिए कई गलतियां हुई हैं. जब देश आजाद हुआ तो राजगद्दी पर बैठने की जल्दबाजी में कुछ ध्यान नहीं दिया गया. 1947 में संप्रदाय के नाम पर विभाजन हुआ, मुसलमानों को इस्लाम के नाम पर देश चाहिए था. इनमें भी सबसे बड़ी गलती कांग्रेसियों ने की थी, यही कारण रहा कि गुरु नानक देव की कर्मभूमि करतारपुर साहिब पाकिस्तान में चला गया.

'कांग्रेस की गलती ठीक करना मेरे नसीब में'

प्रधानमंत्री ने कहा कि उस समय के नेताओं में थोड़ी समझदारी होती, तो सिर्फ 3 KM. दूरी पर स्थित करतारपुर हमसे दूर ना होता. कांग्रेस की अगुवाई में कई लड़ाईयां हुईं, लाहौर पर झंडा फहराने की बात हुई लेकिन करतारपुर साहिब में मत्था टेकने का प्रबंध नहीं हुआ. हमारी सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर बनाने का फैसला किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की हर गलती को ठीक करना मेरे नसीब में लिखा है, मेरा नसीब 125 करोड़ भारतीयों ने बनाया.

Source : Agency