लखनऊ
भगवान हनुमान के विवाद में कूदते हुए बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्री बाई फूले ने कहा कि हनुमान जी दलित और मनुवादियों के गुलाम थे। अगर लोग कहते है कि भगवान राम हैं और उनका बेड़ा पार कराने का काम हनुमान जी ने किया था। उनमें अगर शक्ति थी तो जिन लोगों ने उनका बेड़ा पार कराने का काम किया, उन्हें बंदर क्यों बना दिया? उनको तो इंसान बनाना चाहिए था, लेकिन इंसान ना बनाकर उन्हें बंदर बना दिया गया। उनको पूंछ लगा दी गई, उनके मुंह पर कालिख पोत दी गई। चूंकि वह दलित थे इसलिए उस समय भी उनका अपमान किया गया।

उन्होंने कहा, ‘‘हम तो यह देखते है कि अब देश ना तो भगवान के नाम पर चलेगा और ना ही मंदिर के नाम पर। अब देश चलेगा तो भारतीय संविधान के नाम पर। हमारे देश का संविधान धर्मनिरपेक्ष है। उसमें सभी धर्मो की सुरक्षा की गारंटी है। सबको बराबर सम्मान व अधिकार है। किसी को ठेस पहुंचाने का अधिकार भी नहीं है। इसीलिए जो भी जिम्मेदार लोग बात करें भारत के संविधान के तहत करें, गैर जिम्मेदाराना बात करने से जनता को एक बार सोचने पर मजबूर करता है।            

Source : Agency