एडिलेड,    
     
India vs Australia (IND vs AUS) 1st Test, Day 1 भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मुकाबला एडिलेड ओवल में खेला जा रहा है. टॉस जीतकर पहले बैटिंग करते हुए टीम इंडिया ने 4 विकेट खोकर 77 रन बनाए हैं. चेतेश्वर पुजारा (17) और रोहित शर्मा (30)  क्रीज पर हैं.

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज के पहले मुकाबले में भारत की शुरुआत बेहद खराब रही. पृथ्वी शॉ के चोटिल होने के बाद इस मैच में मुरली विजय और केएल राहुल को ओपनिंग का जिम्मा मिला. लेकिन, ये दोनों ही फ्लॉप साबित हुए. मैच के दूसरे ही ओवर में 3 रन के कुल स्कोर पर जोश हेजलवुड ने केएल राहुल को एरॉन फिंच के हाथों कैच आउट कराकर भारत को पहला झटका दे दिया.
 
राहुल 2 रन बनाकर आउट हुए.  प्रैक्टिस मैच में शतक जड़ने वाले मुरली विजय का बल्ला भी खामोश रहा और राहुल के बाद वह भी पवेलियन लौट गए. मुरली विजय (11) को 15 के स्कोर पर मिशेल स्टार्क ने अपना शिकार बनाया. कप्तान टिम पेन विकेट के पीछे कैच पकड़ा.

विजय के आउट होने के बाद पुजारा का साथ देने आए कप्तान कोहली भी अधिक समय तक मैदान पर नहीं टिक सके. पैट किमिंस ने भारत को तीसरा झटका दिया, जब 19 के स्कोर पर कप्तान विराट कोहली (3) को उस्मान ख्वाजा ने लपका.
 
पुजारा ने अजिंक्य रहाणे (13) के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 22 रन ही जोड़े थे कि हेजलवुड ने इस साझेदारी को मजबूत होने से पहले ही तोड़ दिया. उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (13) को जोश हेजलवुड ने पीटर हैंड्सकॉम्ब के हाथों कैच कराया. 41 के स्कोर पर भारत को चौथा झटका लगा.
 
इससे पहले भारत ने टॉस जीता  और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. राोहित शर्मा अंतिम-11 में जगह बनाने में कामयाब रहे. हनुमा विहारी को बाहर बैठना पड़ा. ऑस्ट्रेलिया की ओर से मार्कस हैरिस ने टेस्ट पदार्पण किया है.

भारतीय क्रिकेट टीम का लक्ष्य 71 वर्षों में पहली बार कंगारुओं की धरती पर सीरीज जीतना है. पिछले विदेशी दौरों में दक्षिण अफ्रीका में भारत को टेस्ट सीरीज में 1-2 और इंग्लैंड में 0-4 से पराजय झेलनी पड़ी थी. विराट कोहली की टीम अब ऑस्ट्रेलिया में चार टेस्ट मैचों की सीरीज जीतकर विदेश में ‘फ्लाप शो’ का कलंक मिटाना चाहेगी.

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज के रूप में खुद को स्थापित कर चुके कोहली के लिए करिश्माई कप्तान कहलाने का भी यह सीरीज सुनहरा मौका है. ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर भारत ने अब तक 44 टेस्ट खेलकर सिर्फ पांच जीते हैं.

पिछले 71 साल में 11 दौरों पर भारत ने दो बार सीरीज ड्रॉ कराई. पहले सुनील गावस्कर की कप्तानी में 1980-81 और फिर सौरव गांगुली के कप्तान रहते 2003-04 में.

Source : Agency