शिवपुरी-बदरवास
 बदरवास कस्बे में बुधवार से आरंभ हुई अतिक्रमण हटाओ मुहिम पहले ही दिन विरोध के बीच फंसी गई। जाम, आगजनी के बीच एक महिला ने आत्मदाह का भी प्रयास किया।

खासी मशक्कत और पुलिस बल की मौजूदगी के बाद मुहिम के दौरान 500 से अधिक दुकानें, स्टाल व कुछ कच्चे-पक्के मकान तोड़े गए। कार्रवाई तहसीलदार की निगरानी में नगर परिषद के मदाखलत दस्ते ने शुरू की। अतिक्रमण हटाने के दौरान ही लोगों ने कार्रवाई का विरोध किया और नारेबाजी कर दी।

डाक बंगला के सामने एबी रोड पर एक बाइक व टायर रखकर लोगों ने आग लगा दी, जिससे माहौल तनावपूर्ण हो गया और उसके बाद कोलारस एसडीएम सहित तीन थानों से अतिरिक्त पुलिस बल को बुलाया गया फिर मुहिम को दोबारा से शुरू किया गया। अतिक्रमण हटने से क्षुब्ध एक महिला ने आत्मदाह का प्रयास भी किया, लेकिन मौके पर मौजूद अधिकारियों ने उसे किसी तरह से रोका और समझाया। उसके बाद महिला मान गई।


घड़ी की दुकान टूटने से क्षुब्ध थी महिला

बदरवास कस्बे में रहने वाली मीना पत्नी किशन शिवहरे की घड़ी की दुकान डाक बंगला के समीप थी और इसी घड़ी की दुकान से रोजी रोटी कमाते थे। मुहिम के दौरान जब मीना की दुकान टूटी तो वह अपना आपा खो बैठी। उसने अपने ऊपर केरोसिन डालकर आग लगाने का प्रयास किया। कार्रवाई के दौरान अधिकारी वहां मौजूद थे, जिन्होंने किसी तरह से मीना को समझाया, तब कहीं जाकर मीना मानी।

15 दिन पहले मिला था नोटिस, नहीं हटाए थे अतिक्रमण

बदरवास तहसीलदार मधुलिका सिंह तोमर ने 15 दिन पहले बदरवास कस्बे में हुए अतिक्रमण को देखते हुए दुकानदारों को नोटिस थमाए थे। 15 दिनों में अतिक्रमण हटाने को कहा था, लेकिन 15 दिन बीत जाने के बाद भी अतिक्रमण नहीं हटे। इसके बाद बुधवार को तहसीलदार ने अपने मार्गदर्शन में अतिक्रमण हटवाए और विरोध का सामना भी करना पड़ा, लेकिन कस्बे से पूरी तरह से अतिक्रमण हटा दिए गए। चुनावों के दौरान ही अतिक्रमण मुहिम शुरू हो गई थी, लेकिन दुकानदारों के द्वारा प्रत्याशियों को जब इसकी सूचना दी तो प्रत्याशियों ने प्रशासन से गुहार लगाई थी कि चुनावों में इसका असर पड़ेगा। इसलिए इस मुहिम को चुनाव के बाद चलाया जाए।

नारेबाजी से गरमाया माहौल

अतिक्रमणकारियों ने अधिकारियों के खिलाफ नारे लगाकर उनके पुतले जलाए और एबी रोड पर बाइक व टायर इकट्ठे कर उनमें आग लगा दी। जिससे हाइवे पर जाम के हालात निर्मित हो गए। मौके पर फायर ब्रिगेड को बुलाया गया और पहले आग पर काबू पाया गया और उसके बाद में अतिक्रमणकारियों पर सख्ती दिखाई तो यह लोग यहां से भाग गए।

बस स्टैंड, अस्पताल के पास की जमीन, डाक बंगला के समीप, तहसीलदार कोठी के पीछे, मंडी रोड पर अतिक्रमण मुहिम चलाई और यहां से बड़े पैमाने पर अतिक्रमणों को हटाया गया।

तीन थानों से बुलाया बल

बदरवास में अतिक्रमण हटाने के दौरान जब उपद्रव हुआ तो वहां मौके पर एसडीएम कोलारस पहुंचे और उसके बाद उन्होंने इंदार, लुकवासा, कोलारस से पुुलिस बल बुलवाया और बदरवास पुलिस पहले से ही व्यवस्था में लगी थी। इसके बाद पुलिस ने अतिक्रमण का विरोध करने वाले लोगों को खदेड़ा, जिसके बाद कार्रवाई चल सकी।

यह बोलीं तहसीलदार

बदरवास में अतिक्रमण विरोधी मुहिम शुरू की गई थी, जिसमें कुछ लोगों द्वारा कार्रवाई का विरोध किया गया और आगजनी भी की गई। प्रशासन ने सख्ती बरतते हुए शहर से अतिक्रमण हटा दिए हैं। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के आशियाने टूटे हैं, उन्‍हें सरकारी जमीन पर प्रधानमंत्री आवास बनाकर दिए जाएंगे।

मुधलिका सिंह तोमर, तहसीलदार बदरवास।

Source : Agency