नई दिल्ली
 सुप्रीम कोर्ट आलोक वर्मा आलोक वर्मा को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक के अधिकारों से वंचित करने और उन्हें अवकाश पर भेजने के सरकार के निर्णय के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई कर रही है। इस मामले में बहस बुधवार को अधूरी रह गई थी इसलिए सुनवाई आज भी कोर्ट में जारी रहेगी। बता दें कि आलोक वर्मा का दो साल का कार्यकाल 31 जनवरी, 2019 को समाप्त हो रहा है।

इस मामले में गैर सरकारी संगठन कॉमन कॉज, लोकसभा में विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडग़े और अन्य ने भी याचिका एवं आवेदन दायर कर रखे हैं। उल्लेखनीय है कि बुधवार को केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि सीबीआई के दो शीर्ष अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग में हस्तपेक्ष करना जरूरी हो गया था। अधिकारियों की लड़ाई से एजेंसी की छवि धूमिल हो रही थी इसलिए यह कार्रवाई करनी पड़ी।

केन्द्र की ओर से अटार्नी जनरल (महान्यायवादी) के के वेणुगोपाल ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ के समक्ष अपना पक्ष रहते हुए कहा कि दोनों अधिकारी बिल्लियों की तरह आपस में लड़ रहे थे और इनके झगड़े की वजह से देश की प्रतिष्ठित जांच एजेन्सी की स्थिति बेहद हास्यास्पद हो गई थी।

Source : Agency