रायपुर
 राजधानी में लगातार नकली नोट खपाने के मामले सामने आ रहे हैं। पुलिस नकली नोट रखने वाले स्थानीय आरोपियों को पकड़ रही है, लेकिन दूसरे राज्य के सरगनाओं को पकड़ नहीं पा रही है।

करीब पखवाड़े भर पहले मौदहापारा के पटवा कॉम्पलेक्स में राजस्थान का मांगीलाल हुड्डा 13 हजार रुपए के नकली नोट के साथ पकड़ा गया था। उसके पास नोट कहां से और किसने भेजा? इसका खुलासा पुलिस नहीं कर पाई है। इसी तरह अटल नगर में यूनियन बैंक के रिसाइकलर मशीन में 40 हजार नकली नोट जमा करने के मामले में असली सरगना का पता नहीं चल पाया है। पुलिस के मुताबिक नकली नोट ओडिशा से आया है।

पति-पत्नी ने ही छाप लिया 5 करोड़
रायगढ़ के निखिल कुमार सिंह और उसकी पत्नी पूनम अग्रवाल ने 5 करोड़ 60 लाख रुपए नकली नोट छाप लिए। और इसका इस्तेमाल कंपनियों के सीएसआर की राशि बदलने के नाम पर झांसा दे रहे थे। पुलिस ने सभी नकली नोट जब्त कर लिया है। पूरे मामले में पति-पत्नी के अलावा कुछ और लोगों के शामिल होने का संदेह है, लेकिन आरोपियों का पता नहीं चल पाया है।

रायपुर के एएसपी-शहर प्रफ्फुल ठाकुर ने बताया कि प्रारंभिक जांच में जो आरोपी सामने आए हैं, पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। मामले की आगे जांच की जा रही है।

Source : Agency