बुलंदशहर 
उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुई हिंसा के दौरान पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या के मामले में पुलिस ने बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए मुख्य आरोपी प्रशांत नट को गिरफ्तार किया है। गुरुवार को इस गिरफ्तारी की पुष्टि खुद बुलंदशहर के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने की है। उन्होंने यह भी बताया कि नट ने ही इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या की थी और उससे इस मामले में पूछताछ की जा रही है। हालांकि, अब तक सुबोध सिंह की हत्या में इस्तेमाल रिवॉल्वर की बरामदगी नहीं हुई है। इससे पहले बुधवार को ही उत्तर प्रदेश के एडीजी कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने प्रशांत नट के इस मामले में मुख्य संदिग्ध होने की बात कही थी। बुधवार को एडीजी ने कहा था कि प्रशांत नट की तलाश में पुलिस की कई टीमें छापेमारी कर रही हैं। इस दौरान अपने बयान में एडीजी ने कहा था कि हमने दोबारा क्राइम सीन बनाकर उन लोगों पर फोकस किया है, जिन्होंने वहां जाकर इंस्पेक्टर की हत्या की थी। नट इसी समूह का हिस्सा था। अब तक 3 दिसंबर को भीड़ के हमले में इंस्पेक्टर की हत्या के पीछे योगेश राज का हाथ माना जा रहा था।

हिंसा के मामले में अब तक 22 लोग गिरफ्तार 
बता दें कि बुलंदशहर के चिंगरावटी पुलिस चौकी पर भीड़ की हिंसा के बाद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी गई थी। भीड़ के इस हमले में इंस्पेक्टर सुबोध के अलावा एक अन्य युवक की मौत हो गई थी। एसएसपी प्रभाकर चौधरी के मुताबिक, हमले के दौरान इंस्पेक्टर ने सेल्फ डिफेंस में गोली चलाई थी, जिससे सुमित नाम के एक युवक की मौत हो गई थी। तीन दिसंबर को हुई इस हिंसा के सिलसिले में पुलिस ने अब तक 22 लोगों को गिरफ्तार किया है। वहीं एसआईटी की टीम अब भी हिंसा की घटना की जांच कर रही है। 

Source : Agency