वॉशिंगटन 

वर्ल्ड बैंक (WB) के प्रेजिडेंट जिम यॉन्ग किम (Jim Yong Kim) ने सोमवार को ऐलान किया कि वह जनवरी के आखिर में इस्तीफा दे देंगे। किम जलवायु परिवर्तन पर ट्रंप प्रशासन की नीति से नाखुश हैं। कार्यकाल समाप्ति के तीन वर्ष पहले किम का पद छोड़ना ट्रंप ऐडमिनिस्ट्रेशन और अन्य देशों के बीच कटु संघर्ष को हवा दे सकता है। बाकी देश वर्ल्ड बैंक पर अमेरिकी दबदबे की शिकायत करते रहते हैं। 

किम के जाने से अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप को इस पोस्ट पर अपनी पसंद के व्यक्ति को नामित करने का मौका मिल जाएगा। द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद 189 देशों का यह बैंक अस्तित्व में आया। तब से आज तक इसके सारे प्रमुख अमेरिकी ही रहे हैं। दुनिया के विभिन्न देशों को लोन देने वाली इसकी सहयोगी संस्था अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की अगुवाई हमेशा की यूरोपियन ने ही की है। चीन समेत अन्य एशियाई राष्ट्रों में इस परंपरा की मुखालफत की है। 

वर्ल्ड बैंक ने कहा कि किम के जाने के बाद क्रिस्टलिना जॉर्जिवा (Kristalina Georgieva) को अंतरिम अध्यक्ष बनाया जाएगा जो अभी बैंक के एग्जिक्युटिव बोर्ड की सीईओ हैं। वही किम के उत्तराधिकारी के चुनाव की प्रक्रिया शुरू करेंगी। अमेरिका वर्ल्ड बैंक में सबसे बड़ा हिस्सेदार है। वर्ल्ड बैंक का मुख्यालय भी अमेरिकी राजधानी वॉशिंगटन में ही है। 
 

Source : Agency