वॉशिंगटन

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार रात को देश को संबोधित किया. उनके संबोधन में बॉर्डर मुद्दा छाया रहा जिसका मिलजुल कर हल निकालने पर उन्होंने जोर दिया.

राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका-मैक्सिको बॉर्डर की हालत को 'दिनों दिन बढ़ता' संकट बताया और आसपास के देशों का इस ओर ध्यान खींचा. इस मसले के हल के लिए और मैक्सिको बॉर्डर पर स्टील की दीवार बनाने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने 5.7 अरब डॉलर की मांग की.

राष्ट्रपति ने ओवल ऑफिस से पहली बार राष्ट्र को संबोधित किया और बॉर्डर की समस्या निपटाने के लिए लोगों से आगे आने की अपील की. उन्होंने गुरुवार रात टीवी पर दिए अपने संबोधन में डेमोक्रेट्स का ध्यान इस ओर खींचा और इसे इंसानी और लोगों के दिलो-दिमाग का बड़ा संकट करार दिया. साथ ही ट्रंप ने सुरक्षा और लोगों की भलाई के लिए जितना जल्द हो सके फंडिंग पर जोर दिया.  

अमेरिकी राष्ट्रपति ने डेमोक्रेट्स से खास अपील की और उनसे व्हाइट हाउस में मिलने का आग्रह किया. उन्होंने इतना तक कह दिया कि 'देश के नेताओं का कुछ न करना इससे बड़ा अनैतिक कुछ नहीं हो सकता.' गौरतलब है कि ट्रंप जब से सत्ता में आए हैं, उनका अवैध प्रवासियों के खिलाफ ज्यादा जोर रहा है. इसे बंद करने का वे कई बार प्रण ले चुके हैं. ट्रंप का मानना है कि मैक्सिको बॉर्डर पार से आने वाले प्रवासियों को रोकने के लिए स्टील की दीवार बनाई जानी चाहिए लेकिन दीवार का खर्च ज्यादा होने के कारण वे इसमें सबकी भागीदारी सुनिश्चित करना चाहते हैं. इसके लिए उन्होंने देश के खर्च में कटौती का भी प्रस्ताव दिया है.  

हालांकि आलोचक ट्रंप की इन बातों से सहमत नहीं हैं और वे मानते हैं कि सुरक्षा का मुद्दा बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया जा रहा है और इसे इंसानियत के नाम पर परोसा जा रहा है. अमेरिका में यह मुद्दा इसलिए भी ज्यादा गरम है क्योंकि ट्रंप बॉर्डर समस्या को राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दीवार बनाना चाहते हैं लेकिन पिछली रात तक उन्होंने ऐसा कोई ऐलान नहीं किया.

दूसरी ओर डेमोक्रेट्स दीवार के लिए फंडिंग के खिलाफ हैं क्योंकि बॉर्डर पर दीवार खड़ा करना उनके लिहाज से अनैतिक और बेकार है. डेमोक्रेट्स का कहना है कि इस मुद्दे को संबंधित सरकारों से बात कर ही सुलझाया जा सकता है.

Source : Agency