जांजगीर-

चांपा डभरा थानांतर्गत ग्राम धुरकोट के महिला बसंती विश्वास मर्डर कांड की गुत्थी पुलिस ने शुक्रवार को सुलझा ली है। हत्या कोई और नहीं बल्कि महिला की 40 वर्षीय बेटी ने ही की है। मृतिका व उसका पति शेयर मार्केट में पैसा फंसाए थे, लेकिन यह पैसा डूब गया था, जिससे महिला की बेटी परेशान रहती थी। बेटी का गुस्सा फूट पड़ा और अपनी ही मां को सुतली रस्सी से गला घोट दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद बेटी अपने घर चली गई थी। पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर लिया है।

डभरा थाना क्षेत्र के फगुरम चौकी अंतर्गत ग्राम धुरकोट में 8 जनवरी की बसंती विश्वास पति प्रभातचंद विश्वास (60) की अज्ञात आरोपियों ने हत्या कर दी थी। पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ धारा 302 के तहत जुर्म दर्ज किया था। हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए चंद्रपुर एसडीओपी साधना सिंह लगी हुई थी। आसपास के लोगों ने गोपनीय जानकारी जुटाई गई, जिसमें पता चला कि मृतिका की बेटी का अपने मायके आना-जाना था और दोनों के बीच शेयर मार्केट में पैसा फंसने का विवाद चला आ रहा था। पुलिस ने पहले मृतिका के परिजनों को पहले पूछताछ करना शुरू की। पहले तो पुलिस ने प्रभातचंद विश्वास की मालखरौदा में रहने वाली बेटी क्षिप्रा हरधर पति असीम (40) को पहले हिरासत में लिया। 

इस दौरान पुलिस को सूचना मिली कि प्रभातचंद्र विश्वास का शेयर मार्केट में तीन लाख रुपए फंसा है और और उसकी बेटी क्षिप्रा व दामाद का 6 लाख 60 रुपए फंसा है। यह राशि पिता प्रभात चंद के माध्यम से फंसा है। सभी को शेयर मार्केट में बड़ा नुकसान हुआ था। रुपए के लिए प्रभात की बेटी क्षिप्रा और दामाद असीम अपने माता-पिता पर दबाव बना रहे थे। इतनी भारी भरकम रुपए की वजह से दोनों ही परिवार मानसिक दबाव में आ गए थे। बेटी क्षिप्रा कहती थी कि तुम लोगों के कारण इतना बड़ा रकम डूबते नजर आ रहा है। आखिरकार क्षिप्रा अपनी मां की हत्या कर दी। पुलिस ने आरोपी क्षिप्रा को धारा 302 के तहत जुर्म दर्ज कर कोर्ट के सुपुर्द कर दिया है।

इस तरह दिया वारदात को अंजाम
क्षिप्रा 8 जनवरी की दोपहर 12.30 बजे अपनी स्कूटी सीजी 07 एआर 9369 से मालखरौदा निकली थी। एक बजे वह धुरकोट पहुंची। क्षिप्रा अपने मायके जाकर अपनी मां बसंती के साथ विवाद करने लगी। तनाव में आकर क्षिप्रा ने पास में रखे सुतली रस्सी से अपनी मां के गले में लगाकर खींच दी। इस दौरान बसंती अपने आप को बचाने का प्रयास की, जिससे उसके माथे एवं सिर में गंभीर चोटें आई। सुतली रस्सी से गला दबने पर बसंती की मौत हो गई।

दो पत्नी व छह बच्चे हैं प्रभात के

प्रभात चंद्र विश्वास मूलत: कोलकाता का रहने वाला है। उसकी दो पत्नियां थी। पहली पत्नी की तरफ से तीन बेटियां है, जिसकी शादी हो चुकी है। दूसरी पत्नी बसंती थी। बसंती विश्वास के भी पहले पति की तरफ से दो लड़के व एक लड़की है, जो कोलकाता में रहते हैं। प्रभात चंद्र विश्वास की बड़ी बेटी शादी दिल्ली में हुई है। दूसरी बेटी क्षिप्रा की शादी मालखरौदा में असीम के साथ हुई थी। तीसरी बेटी की शादी राजस्थान में हुई है। प्रभात चंद्र विश्वास की शादी आंखी विश्वास का कोर्ट में तलाक का प्रकरण चल रहा था। जिसकी पेशी आठ जनवरी को था। जिसकी पेशी में प्रभात चंद्र सक्ती के कोर्ट गया था। प्रभात मालखरौदा में हलधर पटेल पिता मयाराम के मकान में बतौर किराए में रहता था।

Source : Agency