सिडनी 
ओपनर रोहित शर्मा (133) के शानदार शतक के बावजूद टीम इंडिया यहां ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में अपनी हार को नहीं टाल सकी। मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए भारत को 289 रन का टारगेट दिया जिसका पीछा करते हुए मेहमान टीम 9 विकेट पर 254 रन बना सकी और उसे 34 रन से शिकस्त झेलनी पड़ी। इस जीत के साथ ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 3 मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली।


रोहित महेंद्र सिंह धोनी (51) के अलावा कोई भी भारतीय बल्लेबाज मैच में अपनी छाप नहीं छोड़ पाया। अंत में भुवनेश्वर कुमार (29*) ने जरूर भारतीय प्रशंसकों का जरूर कुछ मनोरंजरन किया। ऑस्ट्रेलिया के जेयी रिचर्ड्सन ने 4, बेहरनड्रॉफ और मार्कस स्टोइनिस ने 2-2 विकेट अपने नाम किए। 

इस मैच में भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और उसके टॉप ऑर्डर के 3 बल्लेबाज तब पविलियन लौट गए जब स्कोरबोर्ड पर टीम का स्कोर कुल 4 ही था। इसी का खामियाजा भारतीय टीम को भुगतना पड़ा। इस बीच रोहित ने अपने करियर का 22वां शतक जड़ा। उन्होंने अपनी पारी में 129 गेंदों का सामना किया जिसमें 10 चौके और 6 छक्के जड़े। वहीं, 95 गेंदों में फिफ्टी जड़ने वाले धोनी 51 के निजी स्कोर पर आउट हो गए। धोनी और रोहित शर्मा ने चौथे विकेट के लिए उपयोगी 137 रन जोड़े। भुवनेश्वर 23 गेंदों पर 4 चौकों की मदद से 29 रन बनाकर नाबाद पविलियन लौटे। 


पारी की शुरुआत में ही जल्दी-जल्दी 3 विकेट गंवा देने वाली भारतीय टीम मुश्किलों में घिर चुकी थी। शिखर धवन (0), कैप्टन विराट कोहली (3) और अंबाती रायुडू (0) जल्दी पविलियन लौट गए। यहां से रोहित और धोनी ने अपनी रणनीति बदली और मैच पर लय हासिल करने के इरादे से गेंद पर नजरें जमाना बेहतर समझा। दोनों खिलाड़ी तेजी से रन बटोरने की बजाए सूझ-बूझ के साथ पारी को आगे बढ़ा रहे थे। 

रोहित ने आज 18वीं गेंद पर अपना खाता खोला। यहां उन्हें बेहरनड्रॉफ की गेंद पर फ्री हिट मिला था और उन्होंने इसे सीमारेखा के बाहर पुहंचाकर अपना खाता खोला। महेंद्र सिंह धोनी ने भी सेट होने में समय लिया लेकिन अब दोनों बल्लेबाज धीरे-धीरे भारत की पारी को पटरी पर लाने का काम किया। 

Source : Agency