रायपुर
 वित्त विभाग ने नई सरकार मंशा के अनुरुप बजट तैयार करने के लिए पूरी ताकत लगा दी है। विभागाध्यक्षों और सचिवों ने उनकी प्राथमिकताओं और आवश्यकताओं को जानने के बाद वित्त विभाग मंत्रियों से चर्चा कर बजट को अंतिम रूप देने का प्रयास करेगा। इसके लिए वित्त विभाग के अफसर 21 से 24 जनवरी के बीच मुख्यमंत्री सहित सभी मंत्रियों से चर्चा करेंगे और उनकी प्राथमिकताओं के मुताबिक बजट को अंतिम रूप देंगे।

नई सरकार के गठन के बाद साथ ही प्रदेश के सभी विभागों के प्रमुख अफसरों को जन घोषणा पत्र की काफी सौंप दी गई थी। साथ ही यह भी कहा गया था कि जन घोषणा पत्र के मुताबिक योजनाओं को तैयार किया जाए। इस आधार पर यह तय है कि इस बार के बजट में जन घोषणा पत्र की झलक देखने को मिलेगी।

वहीं अफसरों का कहना है कि जन घोषणा पत्र को पूरा करने में आर्थिक संकट आ रहा है। यही वजह है कि वित्त विभाग मंत्रियों से चर्चा के दौरान अपना प्रस्ताव बनाकर उनके सामने रख देंगा। वित्तीय स्थिति को देखते हुए मंत्री ही अपने-अपने विभाग की योजनाओं को चयन करेंगे।

मुख्यमंत्री से सबसे आखिरी में चर्चा
वित्त विभाग मंत्रियों से चर्चा की शुरुआत 21 जनवरी से करेगा। पहले दिन मंत्री अनिला भेडिय़ा, मंत्री उमेश पटेल और मंत्री जयसिंह अग्रवाल के विभागों की योजनाओं पर चर्चा की जाएगी। अंतिम दिन 24 जनवरी को वित्त विभाग सभी मंत्रियों से चर्चा करने के बाद मुख्यमंत्री से चर्चा करेगा।

ऐसे होगी मंत्रियों से चर्चा
21 जनवरी को मंत्री अनिला भेडिय़ा, मंत्री उमेश पटेल और मंत्री जयसिंह अग्रवाल के साथ।
22 जनवरी को मंत्री कवासी लखमा, मंत्री गुरु रुद्र कुमार व मंत्री डॉ. शिव डहरिया के साथ।
23 जनवरी को मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, मंत्री मोहम्मद अकबर व मंत्री रविन्द्र चौबे के साथ।
24 जनवरी को मंत्री ताम्रध्वज साहू, मंत्री टीएस सिंहदेव व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ।

Source : Agency