भोपाल
लोकसभा चुनाव में कलेक्टर, एसपी सहित कई अफसर लगातार राजनीतिक दलो के नेताओं के निशाने पर बने हुए है। सरकारी दफ्तरों से भगवान की मूर्ति, फोटो हटाए जाने के  लिए उनके द्वारा जारी आदेश पर सपाक्स ने मुख्य चुनाव आयुक्त से उनकी शिकायत कर उन्हें हटाने की मांग की है। वहीं गुना कलेक्टर की आयोग में पहुंची शिकायत में कहा गया है कि वे पड़ौस के जिले के रहने वाले है इसलिए उन्हें वहां से हटाया जाए।

सपाक्स के संयुक्त सचिव शंखधर गौतम की ओर से मुख्य चुनाव आयुक्त को की गई शिकायत में कहा गया है कि सरकारी दफ्तरों से भगवान के फोटो, मूर्तियां हटाए जाने के कलेक्टर के आदेश से हिंदु समुदाय की धार्मिक आस्था आहत हुई है। शिकायत में कहा गया है कि इस प्रकार के आदेश से प्रदेश और क्षेत्र में आपसी वर्ग संघर्ष होंने तथा सामाजिक समरसता, सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने का माहौल निर्मित हुहा अ‍ै। इसके पहले भी दो अप्रैल को ग्वायिलर और चंबल संभाग में वर्ग संघर्ष से भारी मात्रा में जनधन की हानि हुई थी एवं आपसी सामाजिक समरसता गिड़ी थी इसलिए इस क्षेत्र की घटनाओं का ेध्यान रखते हुए अनुराग चौधरी का तबादला अन्यत्रद्ध करने और उनके विरुद्ध दंडात्मक कार्यवाही करने की मांग की है।

इधर गुना कलेक्टर भास्कर लक्षकार को लेकर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में शिकायत आई है कि वे पड़ौस के जिले के रहने वाले है और लोकसभा चुनाव के दौरान उनकी यहां पदस्थापना रहीं तो निष्पक्ष चुनाव नहीं हो पाएंगे। इसलिए उन्हें मैदानी पदस्थापना से हटाने की मांग की गई है। उज्जैन कमिश्नर अजीत कुमार को लेकर अजाक्स संगठन ने शिकायत की है कि वे जाति विशेष के पक्ष में काम कर रहे है। एक वर्ग विशेष के कर्मचारियों को वे प्रताड़ित कर रहे है। भाजपा ने इंदौर के एडीएम कैलाश वानखेड़े और ज्चाइंट कलेक्टर संदीप सोनी को लेकर शिकायत की है कि ये दोनो इंदौर के रहने वाले है और इन्हें चुनाव से जुड़ी जिम्मेदारी दी गई है। लिहाजा इनके रहने से निष्पक्ष चुनाव होंने की संभावना कम है इसलिए इन्हें यहां से हटाया जाए।

Source : Agency