बॉलिवुड सुपरस्टार शाहरुख खान इन दिनों इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में अपनी फिल्म 'जीरो' की स्पेशल स्क्रीनिंग के लिए चीन के बीजिंग में हैं। शाहरुख खान ने यहां पर अपने फैन्स के साथ कई दिलचस्प फिल्मी आइडियाज को शेयर किया।

ऐक्टर ने भारत और चीन की संस्कृतियों को एक साथ जोड़ने का तरीका बताते हुए पारिवारिक मूल्यों वाली फिल्मों के लिए के सह-निर्माण का प्रस्ताव दिया। शाहरुख खान ने एक इंटरव्यू में कहा कि सिनेमा और कला भाषा से परे लोगों से बात करता है। उन्होंने कहा कि भारतीय और चीनी सुपरहीरो को लेकर एक फिल्म बनाना अच्छा प्रयास होगा।

पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार शाहरुख खान ने कहा कि हमें ऐसी कहानी पर काम करना चाहिए जो हर कोई करना चाहता हो। साथ ही अभिनेता ने कहा कि भारत और चीन के सह निर्माण में बनने वाली फिल्म महंगी न होकर बेहतर कहानी पर आधारित होनी चाहिए। फिल्म हमारे पारिवारिक मूल्यों, संस्कृति, भावनाओं के बारे में होनी चाहिए। इस फिल्म से ऐसा संदेश दिया जाए जिसमें दोनों देशों के लोद आपस में भावनात्मक रूप से जुड़ें।

शाहरुख खान ने कहा कि फिल्मों का भविष्य सह-निर्माण में है। फिल्मों को व्यवसाय से परे मनोरजंन के साथ आगे बढ़ना चाहिए। फिल्में बहुत मूल्यवान होती हैं, जिनका भविष्य बहुत उज्जवल है। फिल्मों में वर्षों से हो रहे बदलाव के बारे में बोलते हुए ऐक्टर ने कहा कि पारिवारिक मूल्य और लोगों की भावनाएं एक जैसी हैं।

शाहरुख ने भाषा की बाधाओं को लेकर बात की और उसके समाधान की पेशकश की। साथ ही कहा कि हम अच्छी चीनी फिल्में देखकर बड़े हुए हैं। इन फिल्मों की अंग्रेजी डबिंग बहुत खराब होती थी। इसके अलावा कहा कि भारत और चीन की फिल्मों की कहानी, संदेश, भावनाएं और पारिवारिक मूल्य एक है।

शाहरुख खान ने यहां तक कहा कि वह चीन की फिल्मों मे एक्टिंग करने के लिए तैयार हैं, बस वह जल्दी से मंदारिन सीख सकें। मैं नहीं चाहूंगा कि कोई मेरे लिए डब करे, बल्कि मैं ऐसा किरदार निभाना चाहता हूं जो केवल गाता और नाचता हो। इसके साथ ही कहा कि चीनी कुंग-फू फिल्में देखकर बड़े हुए हैं।

Source : Agency